Saturday, March 27, 2010

Waiting for scarlet dawn

"Ill fares the land, to hastening ill a pray,
Where wealth accumulates and man decay..."
Who is the top litigant of the country? Who commits the most illegal activities in a year? Who kills the maximum number of people and commits maximum dacoities and road hold-ups in a year? Who has the largest amount of black money? Is Parliament which is struggling to get the Women's Reservation Bill passed aware of the fact that most child prostitutes in the world are from India? Let me answer these questions as they send shiver down the spine.
It would not be easily palatable to us but the fact remains that the 'Union of India' and the 'States' are the biggest litigants of the country. And, you will also be surprised to know that about 80 per cent of decisions of the Uttar Pradesh government are dismissed by the High Court as illegal and arbitrary. It means that about 80 per cent conduct of the government is not as per law.
The other state governments are no better than Uttar Pradesh. The state governments are indulging in the largest number of illegal activities. Last year, in Uttar Pradesh itself, 54 people were killed in police custody. In contrast, no other criminal gang has killed so many people in a year. And, in the last ten years, about 500 people were killed by the men in 'Khaki' called Uttar Pradesh police. The Bihar and the Madhya Pradesh police are not far behind holding the second and third place respectively. It is quite telling about the character of the government as per the government records. Now, the next question is which gang commits the maximum number of dacoities in a year? If you keep an eye on every crossing of roads in the country and states, the cops from the local police station or traffic police can be seen opening their hands before truck or taxi drivers for money. And, at night, the face of the police becomes furious and they intimidate common man at gunpoint. It is as common as its official denial. Obviously, this degeneration of democracy is only leading to anarchy. Again, one will be surprised to know that the largest amount of black money is neither kept by a politician, nor by an actor nor by a smuggler. Ironically, it is the officers of the income-tax, sales tax, customs and excise departments who are responsible for unearthing black money. In spite of that not a single complaint is registered against them in any court of law. Brother, the reality is that the judges of the Supreme Court are eager to know about the properties of everyone but they themselves are not willing to disclose their wealth that has been gathered from known or unknown sources.
When the government machinery including the income tax, sales tax, excise, customs, traffic and other category of officers and judges are making themselves rich through ill-gotten wealth, who will listen to your complaint? The condition is so pathetic that if you think of complaining against some corrupt official to his seniors, you will find that the officer is in good books of his superiors. Nirmal Yadav was the judge in the Punjab and Haryana High Court. There were serious allegations of bribery against her. The mighty judiciary came to her rescue and she was appointed the Chief Justice of the Uttarakhand High Court as a reward for her misdeeds. The people of the country who are being killed slowly by these corrupt bribe takers suffer the pain of death without creating any fuss. Many theories are being propounded at the Para-scientific and Para-psychic levels. Some say that there is a hole in the ozone layer leading to leakage of oxygen from the earth's atmosphere. But no one says that there is a hole in the economy of the country, which is leading to outflow of black money. Some say that because of global warming the earth's temperature is rising, but no one says that the blood of the people has become cold. Another startling fact, as revealed by the renowned economists of the country is that the nation's 50 per cent of gross domestic product is made up of the money which is doing the rounds in speculation and smuggling. And so, its evaluation in nation-building would be meaningless and self-deceiving. According to an estimate, the volume of the country's economy is Rs 61, 64, 000 crore. Out of this amount, a sum of Rs 25 lakh crore is used in bribery and black marketing.
So, when the government is spending most of its time and resources in illegal work; when the sitting judges are reluctant to reveal their wealth; and the legislature is unable to bring out a valid legislation to check it; when the bureaucracy has become the tormentor and the police a gang of thieves, should we not build a new society, a new polity and a new culture?

We will have to take a chance and be more expressive of our depressed feelings without bothering about the consequences. If we cannot laugh together, can't we cry together? I know very well that it is a situation of crying in wilderness and it will not be heard by others. But if we cry together aloud, many wolves will run away from the forest.  And, it will be a new dawn for us.
(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English))

समान्तर सवाल

देश का सबसे बड़ा मुकदमेबाज कौन है? सबसे अधिक गैर कानूनी काम कौन करता है? साल में सबसे अधिक हत्या, सबसे अधिक राहजनी कौन करता है? वह कौन गिरोह है कि जो गुजरे दस सालों में पांच सौ से अधिक हत्याएं कर चुका हो? सबसे अधिक काला धन किसके पास है? महिला आरक्षण बिल पास करने की जद्‌दोजहद से जूझ रही संसद को क्या इसका संज्ञान है कि विश्व की बाल-वेश्याओं में भारत की बेटियां सबसे ज्यादा हैं? इस सिहरा देने वाले प्रश्नों के सार्थक उत्तर भी देता चलूं।
'भारत संघ' और 'राज्य' देश के सबसे बड़े मुकदमेबाज हैं। उत्तर प्रदेश राज्य सरकार के लगभग 80 प्रतिशत फैसले उच्च न्यायालय में खारिज कर दिए जाते हैं। यानी उत्तर प्रदेश सरकार का लगभग 80 प्रतिशत आचरण विधि सम्मत नहीं है या गैर कानूनी है। उत्तर प्रदेश जैसा ही हर राज्य सरकार का हाल है। उत्तर साफ है– सबसे अधिक गैर कानूनी काम राज्य सरकारें कर रही हैं। गुजरे साल उत्तर प्रदेश में पुलिस अभिरक्षा में 54 लोग मारे गए थे। किसी भी अन्य गिरोह ने एक साल में इतने लोगों की हत्या नहीं की और दस साल में तो लगभग पांच सौ लोग उत्तर प्रदेश पुलिस के वर्दीधारी गिरोह ने मार डाले। बिहार और मध्य प्रदेश पुलिस क्रमश: दूसरे और तीसरे स्थान पर रही। यह तो था सरकार के चरित्र के बारे में सरकारी रोजनामचों में दर्ज सरकारी सच। अब अगला सवाल था कि वह कौन सा गिरोह है जो सबसे अधिक राहजनी करता है? देश-प्रदेश के लगभग हर चौराहे पर भिखारियों की तरह ट्रक-टैक्सी वालों के आगे फैले हाथ वहां के स्थानीय थानों की पुलिस-ट्रैफिक पुलिस के ही होते हैं और रात को इस कार्रवाई में पुलिस के हथियारबन्द सिपाही उगाही करते देखे जा सकते हैं। क्या इस प्रत्यक्ष को प्रमाण की भी जरूरत है?
सबसे अधिक काला धन किसके पास है? नेता? - नहीं, अभिनेता? - नहीं, स्मग्लर -? नहीं, इनके यहां काला धन पकड़ने वालों के पास सबसे अधिक काला धन। आयकर के अधिकारी, बिक्रीकर के अधिकारी, कस्टम, एक्साइज के अधिकारी। फिर इन पर कहीं किसी अदालत में कोई शिकायत क्यों नहीं होती? अरे भाई, हकीकत जानिए, देश की सबसे बड़ी अदालत यानी सर्वोच्च न्यायालय के जज साहबान पूरे देश की सम्पत्ति जानना चाहते हैं पर अपनी सम्पत्ति का खुलासा करने से मुकर गए हैं। आयकर, बिक्रीकर, कस्टम, एक्साइज, ट्रैफिक ऑफिसर और विभिन्न श्रेणी के तमाम कर्मचारी, अधिकारी, पेशकार और कई जज साहबान। अब किससे शिकायत करेंगे आप।
सोचा था कि साहब से शिकायत करेंगे,
लेकिन वह कमबख्त भी उनका चाहने वाला निकला।
पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय की एक जज थीं निर्मल यादव। उन पर घूसखोरी के घनघोर आरोप थे। सक्षम न्यायपालिका और सरकार उनके बचाव में उतर आई और उन्हें पुरस्कार में देव भूमि उत्तराखंड उच्च न्यायालय का मुख्य न्यायाधीश बना दिया गया।
देश की 'हलाल' होती जनता देश में 'हराम' करते इन हरामखोरों, घूसखारों के भ्रष्टाचार पर ध्यान न दे, इसके लिए विद्वान अपनी परिकल्पना से परावैज्ञानिक और परमवैज्ञानिक प्रतिस्थापनाएं प्रतिदिन प्रतिपादित करते हैं। कोई कहता है ओजोन की परत में छेद है और ऑक्सीजन का भूमंडल से रिसाव हो रहा है। कोई नहीं कहता कि देश की अर्थव्यवस्था में छेद है और उससे कालेधन का प्रवाह हो रहा है। कोई कहता है ग्लोबल वार्मिंग है। भूमंडलीय तापमान बढ़ रहा है। कोई नहीं कहता है कि जनता ठंडी पड़ रही है। भारतीय अर्थव्यवस्था के स्वयंभू जानकारों का आकलन यह है कि देश के सकल घरेलू उत्पाद का लगभग 50 प्रतिशत घूस, सट्‌टा,  तस्करी में लगा धन है जिसका राष्ट्र निर्माण में आकलन करना ही बेमानी और बेइमानी है। चूंकि भारतीय अर्थव्यवस्था का आकार 61 लाख 64 हजार करोड़ है जिसमें अनुमानत: 25 लाख करोड़ रुपए घूस, तस्करी और अन्य काले कारोबार के टर्नओवर में सक्रिय है। सवाल है कि जब सरकारें अपना अधिकांश समय और संसाधन गैर कानूनी अवैध कामों में लगा रही हों। न्यायपालिका के पीठासीन जज अपनी सम्पत्ति का खुलासा करने से कतरा रहे हों, इस पर नियंत्रण लगाने के लिए विधायिका बांझ नजर आए और किसी भी सार्थक कानून को जन्म न दे सके, नौकरशाही जन उत्पीड़क हो, पुलिस कातिलों का गिरोह और राहजन बन चुकी हो तब एक नए समाज, नई राजनीति, नई संस्कृति का सृजन करना ही होगा। अभिव्यक्त को खतरे उठाने ही होंगे। अगर हम समवेत रूप से हंस नहीं सकते तो संवेद रूप से रो ही लें। मैं जानता हूं कि अरण्यरोदन की स्थिति है, यह पर तुम्हारे यों एक साथ, पुरजोर रोने से भी कई भेड़िये भाग जाएंगे और कदाचित एक नई सुबह आएगी।
''दिन तो होता है अम्बर में पर रात हमारी आंखों में,
सपनों को चुरा गया कोई, कुछ गीत सुनाने से पहले।''

(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English))

Friday, March 19, 2010

Cuss of currency

It was a strange sight that day. While the naked saints were busy washing off their sins in Kumbh, the leaders of a particular political party were busy in executing their nasty design by getting a garland of money prepared to propitiate their boss. Between these 'saints' and the 'evildoers', stands new Samvat era. And the common man sandwiched between the 'saints' and the 'sinners' gasps for breath.

What is happening everywhere is unfolding a sordid drama of what has to come. In Srinagar (J&K), the tricolour has been burnt as if it were a community festival. This must have saddened and shocked every Indian. Similarly, another news item that shook us was Pak-sponsored, which said that Lahore was attacked by Indian terrorists. Similarly, the news item that the men who sprayed bullets on the Sri Lankan players during their tour to Pakistan were also Indians hit us like a ton of bricks. One another news that Sadhvi Pragya and Col Purohit were arrested in a bid to spread Hindu terrorism gave a severe jolt to us. What is more shocking is the fact that the police secretly spoke of the hands of Hindu terrorist organisation in Pune bomb blast.

But then every time the story begins where one left off. This time it is the self-styled babas whose misdeeds have sapped the social fabrics of our country. All these babas are saffron-clad Hindus. None of them is either a priest or a maulvi. All this makes it amply clear that either the spiritual leaders of Hinduism have fallen from their paths or it is an orchestrated attack on Hinduism. While it is difficult to say if it is true or a mere conspiracy, it is clear that Hinduism is standing on crossroads. The Islam and Christianity are gaining strength but the Hinduism is weakening. So is the condition of the Buddhism and the Sikhism. What is different is apparent as the religions which originate here are being condemned in such a way that the Indian nationalism may die a slow but certain death. One must always keep it in mind that Bharat is primarily a spiritual entity and then a sovereign identity.

The people of India are sandwiched between these 'babas' and 'bandits' of political outfits as the new weapons of war in this decade are money and votes. Those who wield these weapons are always greeted with garlands of currency notes. The income tax people are also stunned by this fact. Maybe this is disproportionate to their known sources of income, but it appeals to their political consciousness. The irony is that you cannot abuse a Pandit because the consciousness of Parushram will torment you. An unhindered analysis of the misdeeds of a Thakur will invite the wrath of the Chetak community. Baniyas are of course, the younger brothers of Agrasen and above reproach. The Yadavas, Lodhis, Kurmis, Jatavas, Pasis, Bhangis all have flung their flags high in the sky; and you cannot criticise any one of them from an open forum. An adverse analysis of any Muslim, Christaian, Sikh or Jain saint will put your life in danger. But, if you criticise India, no one says a word. Rather, many will applaud.

The roof of this country which is like a lodge is leaking and that mending its dilapidated walls and its tattered roof is not considered our responsibility. We are simply bothered to save our heads from a leaking top. The farcical faces of our religious lords have been revealed many times; and our language has been corrupted. Now, every political jargon carries two meanings, one is actual the other is notional- dalit, minority, secular are the words of such dubious meanings. Here, one who rules is also called dalit and stand shamelessly wearing a garland of crores of thousand rupee currency notes; and where minority means being majority who comes second numerically. If Sachin Tendulkar cuts a cake which is in the shape of the map of India or Mandira Bedi wears a saree which bears the print of flags of many countries, they have to publicly apologise for their crime. If a cop in Kolkota or Bangaluru by mistake drops the national flag on the ground, he is suspended. But when the separatists in Jammu & Kashmir launch an agitation and burn our national flag, we all remain silent. The electronic media, which has telecast the news of Sachin, Mandira and the poor cop as breaking news, does not utter a single word about the government failure to hoist the national flag in Srinagar and its burning by terrorists. It would have been a happy situation if the walls of all religions had crumbled. Ironically, the walls of Islam and Christianity are becoming stronger.

Maybe it's Bareilly riots or the Boriwali bomb blast our hands are stained with the blood of our own kin. The people being killed by the Naxals and the Naxals who are losing their lives are all Indians. But on the whole, it is the Indian nationalism which is being murdered. It's high time that either we are killed or pay our enemies in the same coin.
(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English) - in March 27, 2010 Issue)

कुम्भ और दम्भ के बीच

उस दिन एक अजीब नजारा था। एक ओर कुम्भ में संन्यासी थे तो दूसरी ओर राजनीति के सत्यानाशी। इन संन्यासी और सत्यानाशी के बीच अविनाशी विक्रम संवत का नया साल शुरू हुआ। इधर संन्यासी और उधर राजनीति के सत्यानाशियों के बीच पिसती हुई आम जनता का महाविनाश हुआ है। इस बीच एक निरपेक्ष सहमा सा समाचार यह भी है कि जम्मू-कश्मीर की राजधानी में तिरंगा झण्डा सामूहिक समारोह में जलाया गया। इस सारी स्थितियों के साक्षी समय की बाट जोह रहे हम सहमे गवाह हैं।
एक दिन एक खबर आई। खबर पाकिस्तान प्रायोजित थी। लाहौर में भारत के आतंकियों ने हमला किया। फिर दूसरी खबर आई कि पाकिस्तान दौरे पर गई श्रीलंकाई टीम पर गोली बरसाने वाले भारतीय थे। तीसरी खबर आई कि हिन्दू आतंकवाद फैलाने के लिए साध्वी प्रज्ञा और कर्नल पुरोहित गिरफ्तार हुए। पुणे के बम विस्फोट में भी हिन्दू आतंकी संगठन का हाथ होने की पुलिसिया सुगबुगाहट हुई। अभी यह क्रम थमा भी नहीं था कि एक-एक कर बाबा बेनकाब होने लगे। यह सभी बाबा भगवाधारी हिन्दू बाबा थे। एक भी ईसाई पादरी या इस्लाम का अलंवरदार मौलवी नहीं था। बात स्पष्ट है कि या तो हिन्दुत्व के अध्यात्मिक अलमबरदार अब पतित हो चुके हैं या यह हिन्दुत्व पर हमला है। यह सत्य है या साजिश कहना कठिन है लेकिन हिन्दुत्व एक शर्मनाक दो राहे पर खड़ा है। कुल मिलाकर इधर निरन्तर इस्लाम मजबूत हो रहा है। इसाईयत भी मजबूत हो रही है पर हिन्दुत्व कमजोर हो रहा है, बौद्घ कमजोर हो रहे हैं, सिख कमजोर हो रहे हैं। यानी भारतीय राष्ट्रवाद का आधार अब क्षय रोग से ग्रस्त है।
कुल मिलाकर संन्यासी, सत्यानाशी और विनाशी के बीच देश के जन-गण-मन की बेचारगी बिखरी पड़ी है। इस शताब्दी के युद्ध के नए हथियार हैं नोट और वोट। जिनके चरणों में वोट मालाएं हैं उन्हीं के गले में अब नोट मालाएं पड़ रही हैं। आयकर वाले भी भ्रष्टाचार के इस आयाम से स्तब्ध हैं। आप पंडित जी को गाली नहीं दे सकते, परशुराम की चेतना आपकी वेदना बन जाएगी। किन्हीं ठाकुर साहब के कुकर्मों की बेबाक समीक्षा को चेतक समाज चेतावनी देने लगेगा। बनिए अग्रसेन के अनुज हैं ही। यादव जी, लोधी जी, कुर्मी जी, जाटव जी, पासी जी, भंगी जी, बसोर जी, सभी ने अपनी पताकाएं ऊंची फहरा रखी हैं। आप इनमें से मंच पर किसी की भी आलोचना नहीं कर सकते। मुसलमान, ईसाई, सिख या जैन गुरु की समीक्षा करने मात्र से आपकी जान के लाले पड़ सकते हैं, लेकिन अगर आप भारत की आलोचना करें तो कोई कुछ नहीं कहता, कुछ ताली भी बजाते हैं, अनेक नेतागीरी भी चमकाते हैं। कुल मिलाकर यह देश तो धर्म निरपेक्ष है और हम धर्म सापेक्ष। यह देश एक ऐसी धर्मशाला बन चुका है कि जिसकी दरकती दीवारों को दुरुस्त करना हमें अपनी जिम्मेदारी ही नहीं लगता। इस धर्मशालानुमा देश की छत टपक रही है तो टपका करे, हमें अपने सिर की परवाह है।
'दलित' और 'दरिद्र' में अन्तर है। 'दलित' एक सामाजिक स्थिति है और 'दरिद्र' आर्थिक। जब आप बार-बार सत्तारूढ़ हों और भ्रष्ट भी तब आप न दलित ही रह जाते हैं न दरिद्र ही। कोई भी राष्ट्र एक चिन्हित की जा सकने वाली संप्रभु, संवैधानिक राजनीतिक इकाई तब होता है जब वह भौगोलिक और सांस्कृतिक रूप से अस्तित्व में हो। राष्ट्र के तत्व में भाषा और धर्म से पैदा हुई संस्कृति होती है। हमारे धर्म के पाखण्डी प्रणेता एक-एक कर बेनकाब हो रहे हैं। हमारी भाषा भ्रष्ट हो चुकी है। जहां दलित सत्तारूढ़ हों, करोड़ों के नोटों की माला पहने निर्लज्ज खड़े हों, अल्पसंख्यक का अर्थ दूसरे नम्बर का बहुसंख्यक हो। लोधी अपने आपको बैकवर्ड भी बताएं और 'राजपूत' भी लिखें। धर्म ध्वजा के वाहक सार्वजनिक जीवन के कुंभ में निर्वस्त्र दिखाई दे रहे हों। लोकतंत्र में लोकलाज का अभाव हो, माने इस धर्मशाला बने भारत राष्ट्र की हर कमरे की छत टपक रही है और हर दीवार दरक रही है।
अगर सचिन तेंदुलकर कोई ऐसा केक काट दें कि जिसकी डिजाइन भारत के नक्शे से मिलती हो तो उसे माफी मांगनी पड़ती है। अगर मंदिरा बेदी कोई ऐसी साड़ी पहन ले कि जिस पर तमाम देशों के झण्डे छपे हों तो उसे इतने गुनाह पर ही माफी मांगनी पड़ती है। अगर कहीं कोलकाता या बंगलौर में कोई खूसट सिपाही धोखे से तिरंगे झंडे को जमीन में गिरा दे तो उसे निलंबित कर दिया जाता है, लेकिन अगर जम्मू में आज अलगाव वादियों ने प्रदर्शन करते हुए हमारा राष्ट्रीय ध्वज जलाया तो सभी शान्त हैं। जिस मीडिया को सचिन, मंदिरा बेदी या खूंसट सिपाहियों के विरुद्घ 'ब्रेकिंग न्यूज' मिल गई थी उनके लिए इस गणतंत्र पर श्रीनगर में तिरंगा न फहराया जाना और अब तिरंगा जलाया जाना कोई संज्ञेय समाचार ही नहीं है। अच्छा होता कि भारत राष्ट्र की इस बढ़ी किन्तु विराट धर्मशाला में धर्म की सभी दीवारें ढह जातीं, लेकिन यहां इस्लाम की दीवारें और मोटी व ऊंची हो रही हैं। ईसाइयत भी अपनी धर्म ध्वजा को आंधियों में फहराता देखकर खुश दिख रही है और भाषा के हथियार से वह एक लड़ाई जीत भी चुके हैं। हिन्दुत्व की पुरानी दीवार ढहाई जा रही है। बरेली के दंगे हों या बोरीवली का बम विस्फोट हमारे हाथ अपनों के ही खून से रंगे हैं। जो नक्सली हमें मार रहे हैं वह भी भारतीय हैं और जो नक्सली मारे जा रहे हैं वह भी भारतीय ही। कुल मिलाकर भारत राष्ट्र का कत्ल हो रहा है। काफी हद तक हो चुका है। अब समय आ गया है अगर राष्ट्र बचाना है तो हमें कत्ल होना पड़ेगा या कत्ल करना पड़ेगा।
खंजर पर मेरे खून है मेरे ही भाई का,
इस बार जंग जीतकर पछता रहा हूं मैं।
(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English) - in March 27, 2010 Issue)

Tuesday, March 16, 2010

Bizarre bazaar

New values, culture and civilisation are replacing the old.  This process is a sort of displacement and establishment – a sort of creation and excretion – that has caused a dilemma in the society.  No one knows where to go and what to do?  This new development has also affected the media that has all but turned into a 'mandi'. And in this 'media mandi', while a few words are permanent, most are being sold. Advertisements are being sold in the name of news. Most newspapers, instead of becoming a part of democracy, have become tools of conspiracy.

They are only raising those issues which suit their interests; Doordarshan is also indirectly involved in this kind of journalism. They avoid issues which are important but kick up a controversy. News channels are directly involved in a sort of 'prostitution'. While channels give importance to Rahul Mahajan, they have no slot for his ex-wife Shweta. Actually, the news priority given to UPA Chairperson Sonia Gandhi and opposition leader Sushma Swaraj is different from those who lack basic amenities. While reaching Parliament is important for Gandhi and Swaraj, surely a lavatory is important for the poverty-ridden women.

Market rules the 'media mandi', where consistency and endurance are two basic factors that are required to survive. When we, the media people – reporter, writer, editor and media owners – are in the market to prostitute ourselves, do we have any moral right to our raise finger at the character of the market? Does the post of editor still have relevance? Now, there are news traders, news employees, news market, news sellers and news vendors. Altogether, this is the whole scene in the market. Is there any solution to this problem?  No. Only resolution of a dedicated editor can solve this everlasting problem. The word akhbaar originated during the Moughal era. The article, which was read in the court of Badshah to introduce him with the state of affairs in his kingdom, was called akhbaar.

With the passage of time, the format of newspaper has changed but the thinking of the rulers remains unchanged. Badshah wanted that division and contradiction should prevail in the society. So, are the Britons and politicians. Mahatma Gandhi, Bal Gangadhar Tilak, Ganesh Shankar Vidyarthi, Madan Mohan Malviya, Bhagat Singh and Ramnath Goenka used media for disseminating information and ideas to unite the Indian society and tried to turn it into good energy conductor. I would like to differentiate between good and bad conductors of energy. For example, if one end of a log is put on fire, its other end never heats up. So, the log is the bad conductor of energy. But as one side of an iron rod is put into furnace, both sides heat up. Therefore, iron is the good conductor of energy. Mahatma Gandhi and others did the same thing. Earlier, any incident in Jammu and Kashmir used to raise a dust in Tamil Nadu. Remember how the incident of Noakhali left Gujarat restless.

After India won freedom, its people turned into a bad conductor of energy. This is the basic difference between Mahatma Gandhi and rest of the 'fake Gandhis'. News magazines like Dinman and Ravivar became a thing of the past after glimmering for sometimes. The situation has come to such a pass that Ambika Soni once said, "The media acts as a repository of public trust for conveying facts to the people. When paid news is presented as news content, it could mislead the people and thereby hamper their judgment to form a correct opinion. Thus, there is no denying the fact that there is an urgent need to protect people's right to correct and unbiased information."

Then the question is: what is the solution to this problem? Alternative media or a determined media? We have decided. Our determination is our strength. We hope that Jan Gan Man guides us so that we may reach you with the objectivity which is meant for you and let your voice of anguish reach the deaf ears of politicians.

We may help the torchbearers of democracy wake up; and we have taken the pledge to give you an alternative of an alternative media. We are marching ahead with this mission. Now, it is to be seen when its spark turns into a fire raising public awareness. We have come to make the society a good conductor of this heat. We are holding up the lamp to lighten the path, determined to glow in the dark and struggle to welcome the dawn of a new morning. Whether you will be with us or not is your decision.
(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English) - in March 20, 2010 Issue)

सार्थक संपादक का संकल्प

'मैं राह का चिराग हूं, सूरज तो हूं नहीं,
जितनी मेरी बिसात है जला जा रहा हूं मैं।'
काफिले गुजर रहे हैं। विस्थापित हो रही सभ्यताओं संस्कृति और सामाजिक मूल्यों के काफिले। काफिले भी आ रहे हैं नए संस्कारों, सभ्यता और संस्कृति के काफिले। इस स्थापना और विस्थापना के बीच। इस सृजन, उत्सर्जन और विसर्जन के बीच विश्वास और विवशता के नारे हैं। हमारी राह क्या हो? यह बेबसी है, बेचैनी और विडम्बना भी। आज इसी दो राहे पर मंडी लगी 'मीडिया मंडी'। इस 'मीडिया मंडी' में कुछ शब्द टिकाऊ हैं, किन्तु अधिकांश बिकाऊ।
विज्ञापन खबरें बनाकर बेचे जा रहे हैं। अधिकांश अखबार लोकतंत्र के यंत्र नहीं षड्यंत्र बन चुके हैं। केवल सुविधाजनक सत्य की ही पल्लेदारी हो रही है। दूर-दर्शन भी परोक्षत: देह व्यापार में लिप्त है। वहां भी राहुल दुल्हनिया ले गया है, सुबकती श्वेता (राहुल की पहली पत्नी) को कोई नहीं पूछ रहा। सोनिया गांधी हों या सुषमा स्वराज सभी की वरीयता है संसद, उधर दूसरी ओर आधी आबादी खुले में शौच जाने को अभिशप्त है उसकी वरीयता है शौचालय। संसद व शौचालय के बीच बिखरी सभ्यता की वरीयता और वेदना अलग-अलग है। क्या इस वेदना की वाहक है भारतीय मीडिया?
'मीडिया मंडी' यानी 'बाजार' जहां वही बिकेगा जो दिखेगा और वही दिखेगा जो इस मंडी में टिकेगा। जब हम मीडिया के लोग अपना खरीदार तलाशते मंडी में बिकाऊ होकर खड़े ही हो गए तो बाजार का आचरण और बाजार का व्याकरण। फिर संवाददाता, लेखक, सम्पादक, मीडिया मालिक आदरणीय क्यों हों? अब 'समाचार व्यापारी', समाचार कर्मचारी, समाचार आढत, समाचार हलवाई, समाचार चाट। कुल मिलाकर यही परिदृश्य है। मीडिया मंडी की इन वैश्य और वैश्यावृत्ति से असहमत व्यक्ति पर विकल्प क्या है? - कोई नहीं। ऐसे में संकल्प ही शेष है। किसी सार्थक संपादक का संकल्प।
मुगलकाल में 'अखबार' शब्द आया। बादशाह को जनता का हाल बताने के लिए दरबार में जो आलेख पढ़ा जाता था उसे 'अखबार' कहते थे। तब हो या अब बादशाह यही चाहते थे कि समाज विभाजित रहे, एक इकाई न बन सके और उसमें परस्पर द्वंद्व जारी रहे। अंग्रेजों ने भी यही किया।
गांधी, तिलक, गणेश शंकर विद्यार्थी, मदनमोहन मालवीय, भगत सिंह, रामनाथ गोयनका जैसों ने मीडिया को सूचना, समाचार और विचार का वाहक बनाया ताकि विभक्त भारतीय समाज को संवेदना के सूत्र में बांध कर संगठित किया जा सके। भारतीय समाज ऊष्मा का कुचालक समाज था उसे ऊष्मा का सुचालक समाज बनाया जा सके। यहां ऊष्मा के सुचालक और कुचालक का अन्तर स्पष्ट कर दूं। लकड़ी का कोई लट्ठा अगर एक सिरे से जलाया जाए तो उससे उसका दूसरा सिरा गर्म नहीं होता। वह ऊष्मा का कुचालक है। लोहे की सरिया का एक सिरा भट्ठी में डाल दें तो दूसरा सिरा तपने लगता है। वह ऊष्मा का सुचालक है। महात्मा गांधी आदि ने यही किया था। जम्मू कश्मीर में कुछ हो तो तमिलनाडु सुलगने लगता था। नोआखली में कुछ हो तो गुजरात बेचैन दिखता था।
हम आजाद हुए और फिर हमें आसान किस्तों में ऊष्मा का कुचालक बना दिया गया। यही अंतर है असली महात्मा गांधी और शेष बचे फर्जी गांधियों में। दिनमान, रविवार जैसे कई प्रयोग हुए पर कुछ समय टिमटिमा कर राह के ये दिए भी धुआं पहन गए, और वह दिन भी आ गया कि जब संजय गांधी के साथ अपनी जवानी में क्रान्ति कर चुकी अम्बिका सोनी ने मीडिया को प्रवचन देते हुए कह डाला - ''मीडिया जन विश्वास की इस आस्था पर खड़ी है कि उसे लोगों तक सच और उचित सूचनाएं पहुंचानी है। जब पैसे लेकर सूचनाएं समाचारों की तरह पढ़ाई जा रही हों तो वह जनता को दिशा भ्रमित करेंगी और सही निर्णय तक पहुंचने में बाधा डालेंगी। इसलिए इससे इनकार ही नहीं किया जा सकता कि जनता के सही निष्पक्ष सूचना पाने के अधिकार को मीडिया से ही खतरा है और मीडिया की इस प्रकार की चरित्रहीनता से जनता को तुरन्त सुरक्षा देना जरूरी है।'' अम्बिका सोनी ने मंडी में खड़ी मीडिया को प्रवचन दे डाला और अपराध बोध से यह सुन लेना पड़ा। आगे ऐसा न हो, इसका उपचार क्या है?
वैकल्पिक मीडिया या संकल्प की मीडिया। हमने तय कर लिया है। हमारा संकल्प ही हमारा सामर्थ्य है। हम प्रयास कर रहे हैं कि हमारे प्रयासों की प्रायोजक भारतीय 'जन-गण-मन' हो। हम आपके सरोकारों वाले सच को लेकर आप तक पहुंचें और आपकी वेदना को बंद पड़े कानों में ठूंस दें। लोकतंत्र के चौकीदारों को हम जगाएं। हमने संकल्प किया है आपको वैकल्पिक मीडिया देने का। हम चल पड़े हैं इन्हीं जज्बात और जुनून के साथ। देखना है कि यह जन चेतना की जरूरतों का जुलूस कब बन पाता है? हम समाज को ऊष्मा का सुचालक समाज बनाने आए हैं। हम पर आईना है और आप पर सूरत-ए-हाल। हम राह के चिराग हैं, हमारा संकल्प है कि हम जलेंगे अंधेरे से जूझने के लिए, नई सुबह के सूरज का स्वागत ही हमारा संकल्प है।
हमें विश्वास है कि नई सुबह के नए सूरज के स्वागत में आप भी होंगे हमारे साथ। एक तरह के पत्रकारीय संस्कारों का अगर सूर्यास्त हुआ है तो दूसरी तरह के पत्रकारीय संस्कार दूसरे कोने से उदित हो रहे हैं। सच के पानी की पैमाइश करने वालों को पता है कि उसके नीचे भी दहक रहा है एक ज्वालामुखी। हमारे पास दो ही रास्ते हैं या तो सूरज में अपनी सच की परछाई की पैमाइश कर लें या पैरों तले पाताल में तलाशें सोते हुए ज्वालामुखी।
(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English) - in March 20, 2010 Issue)

Friday, March 5, 2010

Pangs of poverty

We live in a funny nation where Pizza reaches home faster than ambulance or police… you'll get car loan @ eight per cent but education loan at 12 per cent; you need qualification to manage work but no degree needed to manage the country where school admissions are more painful than child birth… ever since I received this message on my cell-phone, I cried like the dancing peacock who wails after seeing its ugly claws. Peacock is our national bird. Legend has it that when self-enchanted peacock starts dancing on its beauty, all of sudden the bird sees its claws. The bird feels that they are ugly as compared to other beautiful parts of his body and the bird burst into tears. Like the self-enchanted peacock, the self-enchanted nation, delighted about the success of its economy, is also crying out, seeing the ugly condition of the common man.

Factories, roads, houses, bridges are not the factors of nation-building. Nation- building starts since childbirth. When a grandfather takes his grandson to the school for the first time, nation walks in the form of a little child. In this budget, no provision has been made to make the feet of nation beautiful. The budget has much about the infrastructure and basic infrastructure but it does not have any proposal for its soul.

So far the nation has failed to provide equivalent education to its children. At this juncture, it should be decided which class does this nation belong to? In metros like Mumbai, Kolkata and Delhi, the factory owners' children are studying to become owners. Children of bureaucrats and other services are spending sleepless nights to become employees and children, studying in the schools in remote areas and villages, are dreaming of becoming servant to servants.

Those in power don't want to implement a common education system as they want their children to become owner or master and your son to become their servant or servant to servant - fourth class employee. Altogether, when your son gets education in such a system, he wouldn't be able to do anything, besides becoming a servant. The factory that makes servant is called 'School'. These 'schools' are owned by businessmen not by academicians.

Let us have a look at other aspects of this issue. Education spread rate has been comparatively low in the constituencies like Phoolpur, Rae Bareli, Chikmagalur and Bellary – which gave prime ministers to the nation. This shows that the semi-literate people elect nation's premiers. But Delhi, Mumbai and Kolkata had never been constituencies of an elected premier.

You have seen Priyanka, Rahul, Jitin and Nitin. Now, see your child, who does not have a thumb in his hand. He is Eklavya of today. Without resources, he has to compete with those who were born with silver spoon. He does not have thumb of resources and recommendations in his hands. Only lucky people have lucky sons. As he is the child of an unlucky person, he is raw material of the so-called nation-building factory.

A Gandhi, a Bhagat Singh and a Subhash Bose raised your voice against your slavery but you do not utter even a single word against it. You will have to bridge the gap between a firefly of village and a tubelight of the city. In the gilli-danda vs golf competition, Bharat vs. India's 'Bhindia' is seeking its definition. All amenities, including light, roads and food are confined to cities only. While tube lights illuminate India, Bharat still lives in the dark. Why no one takes stand against this injustice? What are we doing for nation-building?

Budget is the mirror of our plans. Government's index ends with the analysis of budget. Budget has dual parameter. While it has 'consumer index' for the rich, it has 'Gross Domestic Product' for the poor. Apparently, the rich and prosperous get all the facilities they want, even as the poor are asked about their contribution to the nation-building. The poor will get education, cloth, medical facility, justice and housing in the proportion of productivity. As a result, teachers, constables, farmers and soldiers are getting included in the list of the poor and stock broker, actors, players are getting richer. Those who are ready to sacrifice their lives for the nation are depended on the pity of 'parasites'. Is there any solution to the problem?

(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English) - in March 13, 2010 Issue)

भारत - इंडिया या भिंडिया

''हम एक अजीब देश में रहते हैं, जहां पिज्जा हमारे घर तक एम्बुलेंस या पुलिस की अपेक्षा जल्दी पहुंच जाता है। आपको 8 प्रतिशत के ब्याज पर कार लोन मिलता है जबकि एजूकेशन लोन 12 प्रतिशत के ब्याज पर मिलता है। जहां बच्चे को स्कूल में दाखिला दिलवाना उसके जन्म की प्रसव वेदना से भी अधिक कष्टकर है। जहां कार्य प्रबंधन के लिए योग्यता जरूरी है पर देश प्रबंधन के लिए कोई योग्यता नहीं चाहिए।'' मेरे मोबाइल फोन पर जबसे यह मैसेज आया मैं नाचते मोर की तरह अपने कुरूप पंजे देखकर रो दिया। मोर हमारा राष्ट्रीय पक्षी है। दंत कथा इस प्रकार है कि मोर जब अपनी ही सुन्दरता पर आत्म मुग्ध होकर नाचता है तो नाचते-नाचते अचानक उसका ध्यान अपने पंजों पर जाता है और वह पाता है कि उसके शेष शरीर के सौंदर्य की अपेक्षा उसके पंजे कुरूप हैं और वह आत्म मुग्ध मोर रो पड़ता है। देश की आर्थिक राजधानियों, प्रदेश की राजनीतिक राजधानियों में यह नाचता हुआ आत्म मुग्ध राष्ट्र भी रो रहा है अपने पंजे यानी बुनियाद यानी जन-गण-मन का विद्रूप चेहरा देखकर।
राष्ट्र का निर्माण लोहे, सीमेंट, कल कारखानों, सड़कों, मकानों, बम्बे-खम्बे, पुल-पुलियों से स्मारकों से नहीं होता। राष्ट्र का निर्माण हर बच्चे के जन्म से शुरू होता है। जब कोई दादा पोते को पहली बार स्कूल ले जा रहा होता है तो नन्हें कदमों से राष्ट्र चल रहा होता है। इस बजट में भी राष्ट्र के पंजों को सुन्दर बनाने का कोई प्रयास नहीं हुआ है। ढांचे और आधार-भूत ढांचे की तो लम्बी व्याख्यान माला है पर उस ढांचे की आत्मा का कोई प्रस्ताव ही नहीं। जो राष्ट्र अपने बच्चों को समान शिक्षा भी अभी तक नहीं दे सका वह समाज के किस तबके का राष्ट्र है किसका नहीं अब तय हो ही जाना चाहिए। मुम्बई, कलकत्ता, दिल्ली जैसे शहरों में मालिकों के बच्चे मालिक बनने के लिए पढाई-पढाई खेल रहे हैं। नौकरों के बच्चे अगली पीढ़ी का नौकर बनने के लिए अपना बचपना स्कूलों के कोल्हू में पेर रहे हैं और दूर देहात में टाट-पट्टी वाले स्कूलों के बच्चे सत्ता के नौकरों का नौकर बनने का सपना संजोए गोबर से अपने स्कूल का आंगन लीप रहे हैं।
वह यानी सत्ता के सारथी इस देश में एक से स्कूल, एक सी शिक्षा इसीलिए नहीं रखना चाहते क्योंकि वह चाहते हैं कि उनका बेटा देश का मालिक और आपका बेटा या तो नौकर बने या उस नौकर का चाकर यानी चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी। कुल मिलाकर जब आपका बेटा इस शिक्षा पद्धति में थोड़ा-बहुत पढ़ जाएगा तो नौकर बनने के सिवा और कर भी क्या पाएगा? - वह यही चाहते हैं। नौकर ढालने की इस औद्योगिक इकाई का नाम है 'स्कूल'। यह पाठशालाएं मंथरा के बेटों की हैं, किसी लव-कुश की नहीं। इस बात पर दूसरे पहलू से भी गौर करें। देश को प्रधानमंत्री देने वाले निर्वाचन क्षेत्रों पर नजर डालें। फूलपुर, रायबरेली, चिकमंगलूर, बेल्लारी सभी में शिक्षा का प्रसार अन्य क्षेत्रों की अपेक्षा कम रहा है। यानी अल्पशिक्षित लोग ही देश को प्रधानमंत्री देते हैं। अभी तक किसी भी प्रधानमंत्री का निर्वाचन क्षेत्र दिल्ली, मुम्बई, कोलकाता नहीं रहा।
बहुत देख चुके किसी राहुल, प्रियंका, सचिन, नितिन की ओर थोड़ी देर को अपने छोटे से बच्चे के हाथ को भी देखो। गौर से देखो उसके हाथ में अंगूठा नहीं है। इस सदी का एकलव्य है वह। बिना संसाधनों के उसे इन रईसजादों से टक्कर लेनी है। संसाधनों और सोर्स सिफारिश का अंगूठा उसके हाथ में नहीं है। भाग्यवानों के बेटे ही भाग्यवान होते हैं चूंकि वह अभाग्यवानों का बेटा है इसलिए वह इस राष्ट्र निर्माण के कथित कारखाने का कच्चा माल है। बिल्कुल किसी कोयले की तरह खुद जलकर ऊर्जा देना जिसकी नियति है।
तुम्हारी गुलामी के विरोध में एक गांधी, एक भगत सिंह, एक सुभाष भी खड़ा था लेकिन तुम हो कि अपनी औलाद की गुलामी के विरुद्घ कुछ बोलते ही नहीं। गांव के जुगनू और शहर की ट्‌यूबलाइट के बीच का अन्तर तुम्हे ही पाटना होगा। गिल्ली-डंडा और गोल्फ के बीच भारत बनाम इंडिया की 'भिंडिया' अपनी राष्ट्रीय परिभाषा तलाश रही है। रौशनी, रास्ते, राशन और रोजगार सभी पर शहरों का कब्जा है और सोडियम लैम्प सिर्फ राजधानी की सड़कों पर ही जगमगा रहे हैं जबकि दूर देहात के असली भारत में अभी अंधेरा है। इस अंधेर और अंधेरे के खिलाफ क्यों खून नहीं खौल रहा?
राष्ट्र निर्माण के लिए हम क्या कर ही रहे हैं? 'बजट' हमारी योजनाओं का आईना होता है। बजट की समीक्षा से सरकार का 'वरीयता क्रम' स्पष्ट हो जाता है। बजट पर गौर करें। दोहरे मानदण्ड हैं। अमीरों के उपभोग के लिए 'उपभोक्ता सूची' और गरीबों के लिए 'कुल घरेलू उत्पाद'। बात साफ है कि अमीरों को वह सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएं कि जिनका वह उपभोग करना चाहते हैं और गरीब बताएं कि उन्होंने राष्ट्र निर्माण में क्या योगदान दिया यानी 'कुल घरेलू उत्पाद'। दूसरे शब्दों में अमीर बताएं कि वह साल भर में राष्ट्र को कितना कुतर-कुतर कर खा सकते हैं और गरीब पहले अपनी उत्पादकता सिद्ध करें फिर अपना हक मांगे। गरीबों को शिक्षा, चिकिˆसा, स्वास्थ्य, न्याय, रोटी, कपड़ा और मकान उसकी उत्पादकता के अनुपात में ही मिलेगा। परिणाम शिक्षक, सिपाही, किसान, सैनिक सभी वंचितों की सूची में सरकते जा रहे हैं और शेयर दलाल, फिल्मी कलाकार, नाचने गाने वाले, सारंगी मजीरे बजाने वाले, खेलने-कूदने वाले सभी सम्प‹न होते जा रहे हैं। दूसरे शब्दों में देश के लिए जान देने वालों की कतार अब कातर हो परजीवियों को देख रही है। इस राष्ट्र के कानों में गूंज रही है राष्ट्रगान की धुन और देह में लगा है परजीवी घुन। राष्ट्र का निर्माण नहीं क्षरण हो रहा है। है किसी के पास इस क्षय रोग का इलाज।
(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English) - in March 13, 2010 Issue)

Friday, February 26, 2010

Happy Holi-burning Prahlad

The words of greeting 'Happy Holi' leave me stunned. So would Prahlad. On whose side do you stand – Holi or Prahlad? Since you don't want to sound pretentious therefore you speak from your heart – Happy Holi. But is it because you too want to hatch a conspiracy to get rid of Prahlad? So far, you seem to have succeeded. But what next?
One can see Holika at different places sitting with Prahlad in her lap. The fire has been lit so that Prahlad perishes in it and the demon Holika emerges unscathed. But legend has it that Holika was charred to death, falling a victim to her own conspiracy, and Prahlad was safe. But it appears that the present-day civilisation is not happy on Prahlad's survival and Holika's demise. So, the people wish everyone 'Happy Holi.'  We have been caught in the web of witches. We are standing by the side of a witch like Holi and raising voice against Prahlad. It is our irony. Everywhere a conspiracy is being hatched to kill the good and honest Prahlad, and Holi has the responsibility to carry it out. Take the budget. The Holi of Manmohanomics has taken the republic – like Prahlad - in its lap and sitting on the pyre. The flame of outrage is burning in our hearts, and people like us are adding fuel to the fire, and shouting 'Happy Holi'. The orphaned Prahlad asks everyone in despair – Does anyone have the balm for his wounds?
Generally in every household there are a couple of Prahlad like smart and innocent children. Over the years we have been making provisions in our budget to ensure the gloomy future for our young citizens. In a country where young Prahlads have to take loan for their education, queries on their self respect are but natural. People who wish a Happy Holi on this occasion are definitely class enemies of characters like Prahlad.
The legend has it that Hiranyakashyap and his sister Holika were the meanest creatures on earth. He had a son Prahlad. Prahlad represented the young generation, so he had his own ideals and principles. He knew how to stand and fight for his principles. He opposed the immoral deeds of his corrupt father. So, his father Hiranyakashyap, along with his sister Holika, hatched a conspiracy to kill him. Holika was a corrupt lady but was blessed that no fire could harm her. So, the conspiracy was that Holika would enter the fire with young Prahlad in her lap. With the blessing, Holika would emerge unscathed from the fire while Prahlad would perish – and Hiranyakashyap will have his way. But nothing of this sort happened. While Holika perished and was burnt to ashes, nothing happened to the honest and principled Prahlad, who emerged safe from the burning pyre. And see the irony, today we exchange greetings of Happy Holi by apparently celebrating the survival of the wicked Holika!
Those who are prosperous and lead colourful lives, are happy and delighted. The rest of the people are trying to infuse some colour into their lives with borrowed colour. But can this borrowed, external colour actually bring any colour into our lives? Today happiness is being marketed and our silent wishes are trying to appear happy. Neither the sellers nor buyers of happiness are happy. Actually it is a mirage in which we have outlived our lives in an attempt to gather our joys. Doubt lingers over the rest of our lives, and happiness appears far away – across the horizon, like a mirage. This is what the Manmohan theory has devised for us in this budget.
Sonia, Priyanka, Ambika Soni, Sheila Dixit, Mamta Bannerjee and Mayawati – all are symbols of Happy Holi. And what is in store for young Prahlads of this nation? A police bullet?
Let us identify and recognize the Prahlad who is a question mark on our character. Young Prahlads! Burn the Holi and know the Prahlad within yourself... and make him stronger.
We are being made poorer in easy instalments. Once we become poor, we will naturally become slaves. When enslaved, this independence will have no meaning. They want this to happen. Many Rahuls, Priyankas, Sachins, Jatins of this country want servants for their homes and therefore a movement is on to make servants out of the citizens of this country. Domestic servant, shop attendant, factory labour, different category of government servants – children of our independent country dream of becoming servants. Gandhi had fought to stop our people become servants of white masters. But we remain slaves by mentality, so we are out to search slavish talent in everyone. On becoming servants, we indulge in robbery and bribery, and celebrate the burning of the values of honesty represented by Prahlad, and shout like demons – 'Happy Holi.'
(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English) - in March 06, 2010 Issue)

हैप्पी होली – सुलगता प्रहलाद

हैप्पी होली – सुनकर मैं तो स्तब्ध हूँ। प्रहलाद दुखी ही होगा। आप किसके पाले में हैं होली के या प्रहलाद के? इसीलिए कि आप छद्‌म नहीं करना चाहते और अपने अन्र्तमन की आवाज से बोलते हैं - ''हैप्पी होली'' क्योंकि आपकी भी मंशा कहीं किसी प्रहलाद को षड्‌यंत्र करके मारने की ही है। आप अभी तक सफल प्रतीत होते हैं। आगे?
जगह-जगह होली प्रहलाद को गोद में लिए बैठी है। आग भी लगाई जा चुकी है ताकि प्रहलाद जल जाए और डायन राक्षसी होली बच जाए। हुआ यह था कि होली अपने ही षड्‌यंत्र का शिकार हो जल गई थी और प्रहलाद बच गया था पर यह सभ्यता उस खलनायिका होली के यों जल जाने और प्रहलाद के बच जाने से दुखी है सो होली को शुभकामनाएं दे रहे हैं - ''हैप्पी होली''। चुड़ैलों के चंगुल में फंस चुके हैं। हम होली जैसी पिशाचनी राक्षसी खलनायिका के साथ खड़े हैं और प्रहलाद के विरुद्ध चीख रहे हैं।
हर जगह चरित्रवान, ईमानदार प्रहलाद को जलाकर मार डालने के षड्‌यंत्र हो रहे हैं और होली को यह दायित्व है। इस बजट को ही देख लें। प्रहलाद रूपी जन-गण-मन को मनमोहनी अर्थशास्त्र की होली गोद में लेकर बैठ चुकी है। आक्रोश की वाला सुलग रही है और हमारे जैसे लोग उस आग में घी भी डाल रहे हैं पर चिल्ला रहे हैं हैप्पी होली, लावारिस प्रहलाद प्रश्न पूछ रहा है कि किसी के पास वह मरहम है जो मेरे जले जज्बातों के जख्मों पर लगाई जा सके। है किसी के पास बरनॉल जैसी कोई मरहम। प्राय: हर घर में एक दो बच्चे हैं प्रहलाद जैसे सुन्दर और निश्छल। हमारे देश में नन्हें नागरिक जिनकी उदासी का प्रबन्ध साल दर साल बजट पर हम कर ही लेते हैं। जिस देश के नन्हें प्रहलादों को शिक्षा के लिए भी ऋण लेना पड़ रहा हो वहां तरुणाई के स्वाभिमान पर संदेह के सवाल स्वाभाविक रुप से उठेंगे ही। निश्चय ही वह लोग जो इस तरह होली को अपनी शुभ कामनाएं दे रहे हैं वह प्रहलाद जैसे चरित्रों के वर्ग शत्रु हैं।
हिरण्यकश्यप और उसकी बहन होलिका बहुत हरामखोर, घूसखोर थे। हिरण्यकश्यप का एक बेटा था प्रहलाद। प्रहलाद युवा वर्ग का प्रतिनिधि था सो उसके सिद्धान्त थे। सिद्धान्त के लिए उसे लड़ना आता था, अड़ना भी आता था। वह समझौतावादी नहीं था। वह अपने घूसखोर, दलाल पिता हरामखोर हिरण्यकश्यप के अनैतिक कामों घूसखोरी, कालाबाजारी का विरोध करता था। सो उसके पिता हिरण्यकश्यप ने अपनी बहन होलिका के साथ मिलकर उसको मारने का षड्‌यंत्र बनाया। होलिका का अपने जमाने के किसी फायरब्रिगेड अधिकारी से ईलू-ईलू था सो उसे वरदान था कि वह आग से नहीं जल सकती। इसलिए तय हुआ कि होलिका अपनी गोद में प्रहलाद को लेकर आग में चली जाएगी और होलिका तो जलेगी नहीं पर प्रहलाद जल जाएगा। लेकिन हुआ उल्टा, होलिका ही जल गई और बचा सिद्धान्तवादी नैतिक ईमानदार कर्मठ प्रहलाद। हम हरामखोर होलिका के पक्षधर हैं और कह रहे हैं ''हैप्पी होली''।
एक औसत भारतीय नागरिक जब दिन भर हलाल होता है तो उसकी आमदनी 32 रुपये प्रतिदिन होती है। इसी में उसे अपना और अपने प्रहलाद जैसे बच्चों का भी पेट पालना है लेकिन हरामखोर हिरण्यकश्यपों-होलिकाओं की मौज है। पाकिस्तानी आतंकी कातिल कसाब पर यह सरकार प्रतिदिन 8 लाख पचास हजार रुपये खर्च कर रही है और इस प्रकार गुजरे 15 महीनों में उस पर 39 करोड़ रुपये खर्च किए जा चुके हैं। यह रुपया आपका है किसी हरामखोर के बाप का नहीं। ये पैसा आपसे टैक्स में वसूला गया है। और करो हैप्पी होली।
जिन लोगों की जिन्दगी रंगीन है वह आनन्दित है शेष बची देश की जनता बाहरी रंगों से अपनी बदरंग हो चुकी जिन्दगी को रंग रही है। यह ऊपर से पड़ा रंग क्या हमारी जिन्दगी को रंगीन बना सकेगा? खुशियां बाजार में बिक रही हैं और ख्वाहिशें खामोश खीसें निपोर रही हैं। न खुशियों के विक्रेता खुश हैं न क्रेता। दरअसल यह मरीचिका है कि जिसमें हम खुशियों को अपनी गिरफ्त में लेने के लिए उम्र से अधिक सांसे ले चुके हैं। श्षो बची जिन्दगी पर संशय है और खुशियां अभी भी दूर बहुत दूर क्षितिज के उस पार यही मरीचिका है जिसे इस बजट में मनमोहन शास्त्र ने गढ़ा है।
सोनिया, प्रियंका, अम्बिका सोनी, शीला दीक्षित, ममता बनर्जी, मायावती यानी कि हैŒपी होली और आपके नन्हें नागरिक किसी प्रहलाद को पुलिस की गोली। प्रहलाद हमारे चरित्र पर प्रश्न है पहचानो। युवाओं! प्रहलादों!! जला डालो होली को अपने अन्दर के प्रहलाद को प्रखर करो, मुखर करो।
हम आसान किस्तों में गरीब बनाए जा रहे हैं। गरीब होंगे तो गुलाम बन ही जाएंगे। गुलाम होंगे तो यह आजादी किस काम की। वह यही चाहते हैं। तमाम राहुल, प्रियंका, सचिन, जितिन जैसे लोगों को अपने यहां नौकर चाहिए इसीलिए इस देश के नागरिक को नौकर बनाने का उपक्रम जारी है। घरेलू नौकर, दुकान का नौकर, कल कारखानों का नौकर, विभिन्न श्रेणी का सरकारी नौकर। स्वतंत्र राष्ट्र में हमारे बच्चों का सपना है नौकर बनना।
हमारे बच्चों को गुलामी से गोरे साहब के नौकर बनने से बचाने के लिए गांधी जूझा, हमें आजाद किया ताकि हम गुलाम या नौकर न बनें पर हम तो ठहरे प्रवृत्ति से गुलाम सो नौकर बनने में प्रतिभा की पहचान करते हैं। नौकर बनकर चोरी घूसखोरी करते हुए फिर ईमानदारी के प्रहलादों को जलाकर उत्सव मनाते हैं और चाण्डालों की तरह चिल्लाते हैं - ''हैप्पी होली''
(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English) - in March 06, 2010 Issue)

Friday, February 19, 2010

Fragrance of Fire

"Snake or saint make no difference
fire of forest reduce them to ashes alike
Our habitat also engulfed in the same fire."

The country is akin to the forest that has been engulfed by fire. Fire and pyre have most elements in common except the element of life. We examine multiples of fortune or misfortunes of this fire but all these equations would end in ashes. Now, dear editors, writers, readers, and citizens at large, it is for you to decide and opt accordingly – whether you need 'ash' or 'fire'. I have my own opinion and if you agree, support me.
If words are capable to ignite a fire, then together they will make a furnace. But such words in fire would also create a fragrance – a fragrance that can be perceived by anyone. The remaining words, which failed to ignite a fire, would not be perceived by anyone, and they will deceive you, so they deserve rejection. See across the smoke coming out of the forest and the fog and you will find the truth. We are writers, editors, conveyer and merchants of this truth. We are the fire not the ash. Our burning eyes are frisking the fog and smoke. We have our eyes on those who are scripting the obituary of the Nation. It would always be better to talk of resolution rather than desolation or of conviction instead of connivance. Connivance is a sort of compulsion that will lead us to a holocaust.
Marie Antoinette was the Queen of France. She was extremely beautiful but ignorant of ground realities. When the starving citizens gathered around the fort demanding food and shouted slogans Marie peeped down from the window and anxiously asked her hostess why were the people shouting. The hostess replied that the people were crying out as they are not getting bread. Marie, the queen, quipped "…if they are not getting bread they should eat cake instead." This innocent statement with a touch of imbecility added fuel to fire that led to what we today call the French Revolution. In our country, there are several Antoinettes in almost all the political parties but there is a dearth of writers and journalists like Russo and Voltaire who can make our society more sensitive.
For we, the indians Melbourne and Mumbai are all alike. We are being driven out of every place everywhere. Have a look at the kind of treatment we are being subjected to. Nobody is bothered about Kashmiri Pandits who were driven out from their own state and living in refugee camps for the last two decade. Chief Minister of Delhi Sheila Dixit suggests that girls should return home before night and if they want to move after dusk then they should not blame the law and order but their conduct. Prime Minister shrugs his responsibilities to check the price rise and shifts it to Agriculture Minister. Agriculture Minister Sharad Pawar says "…what should I do to check price rise? I am not a palmist." Railway Minister reiterates that if you feel that now-a-days travelling by train has become dangerous and risky then stop travelling by train. Another minister Shashi Tharoor some time ago made a remark on 'general class' of aircraft by calling it a 'cattle class.'
On this Republic Day the Chief Minister of Jammu and Kashmir could not muster the guts to unfurl the National Flag at Srinagar. Why? Look at the answer given by this minister Omar Abdullah: "By this friendly gesture we could pacify the separatists. We don't want to provoke them as they have started loving peace". Unfurling of our National Flag within our national territory lies on the mercy of terrorists and separatists. The same day the scene in the National Capital was not much different as there one dreaded terrorist of J & K namely, Gulam Muhammad Mir was decorated with Padmashri. Where the competence and capabilities do not count but the sycophants successfully sail the system. Where the charlatans rule the roost everywhere in the country be it President or Prime minister. Where there is a hue and cry for 'reservation' to eat the cake of corruption, not to die for nation. Where the judicial anarchy is busy in conflict with legislative degeneration; where evil is enjoying the fruits and genuine citizens are being condemned in every walk of life, obviously there would be decline in democratic dignity. In this increasing darkness, people's hopes are pinned on the Press. But the journalist fraternity has also put their arms in same gloves. By and large the Press has become a party to all these malpractices. We are the designer, distributor, editor and writer of fire to keep your furnace of inner soul alive otherwise this system is making pyre ready for us. We are conscious that our words are providing fuel to the fire of discontent as we want to keep it burning. We know the determining difference between fire and pyre.
(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English) - in February 27, 2010 Issue)

सुलगते शब्दों की सुगन्ध

''साधु हो या सांप नहीं अंतर कोई,
जलता जंगल दोनों को साथ जलाता है।
कुछ ऐसी ही है आग हमारी बस्ती में...''

यह किसी कविता की लाचार लाइनें नहीं हकीकत है। देश जंगल में बदल रहा है और जंगल जल रहा है। इस आग के गुणनफल की गुणात्मक विवेचना तो करेंगे ही पर शेषफल तो राख ही होगा। अब तय करो हे संपादकों, लेखकों, पाठकों और नागरिकों कि आपके शब्द 'राख' हों या 'आग'। मैं अपना मत व्यक्त करता हूं, सहमत हो तो साथ देना।

शब्द अगर ज्वलनशील होंगे तो आग में दहकेंगे। दहकेंगे तो महकेंगे। महकेंगे तो महसूस होंगे। कुछ शब्द महसूस होंगे तो शेष बचे मनहूस भी। उन्हें खारिज कर दो। जलते जंगल के धुएं और जलते शब्दों के धुंध के उस पार 'सच' है। देखो! हम सुलगते शब्दों के लेखक, संपादक, संवाहक और सौदागर हैं। हम आग हैं, राख नहीं। हमारी जलती निगाहें हर धुंध और धुएं की जामा तलाशी ले रही हैं। जनतंत्र का जनाजा निकालते लोगों की जामा तलाशी लेना भी हमारा संकल्प है। हम संकल्प की ही बातें करें तो बेहतर होगा। विकल्प तो विवशता है। विवशता विनाश की दहलीज है।
फ्रांस के राजा लुई चौदहवें की पत्नी थीं मैरी एन्टोइनेट। अप्रतिम सुंदर किन्तु सच से अनभिज्ञ। भूखे बिलखते लोगों ने जब राज प्रासाद घेरा तो मैरी एन्टोइनेट ने पूछा यह लोग हा-हाकार क्यों कर रहे हैं? उसकी परिचारिका ने बताया कि लोगों को रोटी नहीं मिल रही। बड़ी मासूमियत से मैरी एन्टोइनेट ने कहा- ''जब लोगों को रोटी नहीं मिल रही तो केक क्यों नहीं खा लेते हैं।'' इसी बात से पैदा हुए झंझावात को फ्रांस की क्रांति कहते हैं। जनता फ्रांस के किले में घुस पड़ी मैरी एन्टोयनेट का सिर मुड़वा कर जूते मारते हुए, उस पर थूकते हुए, फ्रांस की गलियों-सड़कों में उसका जुलूस निकाला गया। भारत में भी फ्रांस की तरह की कई रानी-राजा मैरी एन्टोइनेट नुमा व्यवहार कर रहे हैं पर फ्रांस की क्रांति सुलगाने वाले रूसो, वॉल्टेयर सरीखे लेखक, पत्रकार हैं ही नहीं, जो किसी समाज को चेतन, ज्वलनशील बनाते हों।
उत्तर भारतीयों को जो खतरा मेलबोर्न में है वही मुंबई में। पीट-पीट कर भगाए जा रहे हैं। स्वाभिमान की कसौटी पर सवाल यह नहीं कि हम बार-बार लगातार पीटे जा रहे हैं। सवाल यह है कि यह पिटाई स्वदेसी है या विदेशी? जम्मू-कश्मीर से विस्थापित कश्मीरी पंडितों की सुध किसी को नहीं। उनके पुर्नवास की परवाह में अब कोई परेशान भी नहीं क्योंकि वहां अब उनका वोट बैंक भी शेष नहीं बचा।
दिल्ली की महिला मुख्यमंत्री कहती हैं लड़कियां शाम के बाद घर से न निकलें वरना अपनी असुरक्षा की वह स्वयं जिम्मेदार होंगी। देश का प्रधानमंत्री कहता है मंहगाई के लिए कृषिमंत्री जिम्मेदार हैं। कृषि मंत्री शरद पवार कहते हैं, चीनी महंगी हो गई तो मैं क्या करूं? कब सस्ती होगी? यह पूछे जाने पर कहते हैं मैं क्यों बताऊं, मैं कोई ज्योतिषी नहीं हूं। साथ में यह सलाह भी देते हैं कि चीनी महंगी होने से कई फायदे हैं। चीनी महंगी हो गई तो अब आप मजबूरन इसे कम खाएंगे और इससे आपकी डायबिटीज होने की संभावना कम हो जाएगी। रेलमंत्री कहती हैं कि रेल में यात्रा करना यदि अब असुरक्षित हो गया है तो रेल से मत चलो। हवाई जहाज के भी सामान्य दर्जे को शशि थरूर का गरूर 'मवेशी क्लास' बताता है।
इस गणतंत्र पर जम्मू-कश्मीर की राजधानी श्रीनगर में तिरंगा ही नहीं फहराया गया। क्यों? जवाब देखिए। मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला फरमाते हैं कि यह करके हम चुप हो चले अलगाववादियों को उकसाना नहीं चाहते थे। मतलब कि अब देश के किसी कोने में तिरंगा फहराना भी देशद्रोहियों के रहमो करम पर निर्भर है। श्रीनगर में गणतंत्र पर गद्‌दारों की गुस्ताखी ठीक उस समय हो रही थी कि जब लालकिले पर जम्मू-कश्मीर के एक आतंकवादी गुलाम मुहम्मद मीर को देश की सर्वोच्च सत्ता पद्मश्री से सम्मानित कर रही थी।
जहां प्रतिभा और पराक्रम से नहीं महज परिक्रमा से ही देश के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री बनते हों। जहां देश पर मरने के लिए जातीय आरक्षण की मांग कभी न उठी हो लेकिन देश को मारने के लिए हर आदमी आरक्षण चाह रहा हो। जहां जज जिद्‌दी, विधायिका बांझ, शातिर सुख में और सूरमा सूली पर हों वहां के लोकतंत्र में लोकलाज भला कहां से होगी। ऐसे में पत्रकारिता से अपेक्षाएं थीं पर अब पत्रकारिता और चाटुकारिता के बीच की गली से होकर शब्दों की जो शवयात्रा निकल पड़ी है उसका आखिरी पड़ाव है दाह संस्कार। पर इस दाह से भी क्या 'शब्द' संस्कारित होंगे और सुलगने लगेंगे? यही अन्तर है 'सुलगने' और 'दहकने' में। अंतरचेतना से जो जलता है उसे 'सुलगना' कहते हैं और बाहरी आग जिसे जला दे उसे 'दहकना' कहते हैं।
हम सुलगते शब्दों के शिल्पी हैं, संपादक और सौदागर भी। क्या आप में सच की वह धार्यता है? यदि हां, तो आओ दो कदम तुम भी आगे बढ़ो, हमारे कदम से कदम, कंधे से कंधा मिलाओ, हाथ से हाथ मिलाओ। हां, अगर आपको दाह संस्कार के लिए तैयार दहकते शब्दों की दरकार है तो हाथ न मिलाना या तो आप सुलग जाओगे या मैं शीतल हो जाऊंगा। मुझे अभी जलना है मेरे मित्र। अगर मिसाल नहीं बन सका, अगर मशाल भी नहीं बन सका तो अगरबत्ती की तरह ही जल लूंगा। अगरबत्ती की तरह जलते हुए भले ही प्रकाश न फैला सकूं, सुगन्ध फैलाने का हक है मुझे। कोई नहीं छीन सकता सुलगते हुए शब्दों की सुगन्ध।
(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English) - in February 27, 2010 Issue)

Friday, February 12, 2010

Hail Utsav

Utsav Sharma has shown a mirror to the country's shameless establishment – that includes police and judiciary. His aggression has added to our self-confidence. It has indicated that possibilities still remain. Only the youth can do it – as Utsav did. DGP  S P Rathore, the tainted police officer of Haryana, has once again been saved by the police and establishment. Ironically, this officer never went to jail in the Ruchika case, whereas his attacker Utsav is in jail now. We are grateful to Utsav, as we were ashamed of Rathore.

Utsav's background is relevant. His father S K Sharma is a professor in mechanical engineering, and mother Prof Indira Sharma has been the head of the psychology department. The teacher couple is among the highly-respected faculty members in the Benares Hindu University (BHU). Their only son Utsav too has been a bright student and a gold medalist in Fine Arts from the BHU. At present, he is said to be working on an animation film project. He used to express his intolerance for growing injustice in society. He was not a pretender and therefore instead of slogan-raising, he acted with aggression. Utsav has proved once again that the youth of India still has the capacity to fight injustice while the establishment is deployed in protecting the devils.

A question to our media friends - where were they when this Haryana DGP used to indulge in character assassination in typical police style? Since he was the DGP then therefore most journalist friends did not take the risk of writing about his exploits. About ten years ago, I had written a book Aartnaad – Manav adhikaro ki upeksha aur apeksha (The Outburst – Expectations and Disregard of Human Rights) and some parts of the book are being reproduced here so that our readers can learn the truth about Rathore.

"Ruchika Girhotra was a promising 14-year-old tennis player. She was the daughter of a bank officer and studied in an elite public school in Panchkula near Chandigarh. Rathore was then the IG of Police and also president of the newly – formed Haryana Lawn Tennis Association. On August 12, 1990, Ruchika and her friend Rimu reached the association office that functioned from a garage in Rathore's house. Rathore sent Rimu out on some pretext and molested Ruchika. Ruchika mentioned this to Rimu but not to her parents. On the second day, Rathore sent a policeman to Ruchika's house to call her but she declined, scared of a repetition of the previous day's incident. The policeman got annoyed and a scared Ruchika went to Rimu's house and narrated the entire story to her mother. Rimu's mother Mrs Madhu Prakash mentioned the incident to Ruchika's parents. Ruchika's father made a written complaint to the state's home commissioner, who ordered the state's police chief to inquire into the matter. In the inquiry, the allegations were prima facie found to be correct and an order to file charges against him was issued. After this, the file got lost in bureaucratic maze for several years but an arrogant Rathore did not leave Ruchika alone. Goons in plainclothesman kept on harassing Ruchika and she had to leave school. Her younger brother aged just nine years was framed in 11 criminal cases. It is remarkable that all these cases were lodged after Rathore's attempt to molest Ruchika. Her family became quite helpless in protecting her. Fed up with police harassment, Ruchika committed suicide on December 29, 1993. It took another seven years for Mrs Madhu Prakash to arrange documents and locate files that had been pronounced as lost by corrupt clerks."

Finally, on the intervention of the Supreme Court, the CBI filed a charge sheet against Rathore under sections 364, 376/511 (attempt to molest and rape) of the IPC. The case was heard, the judgment was pronounced but Rathore did not go to jail even for one day, although Utsav is in jail. The establishment even then was protecting the pervert Rathore, and even now, when a frustrated citizen has taken the law into his own hands, the system appears on Rathore's side as his protector. What can a hapless citizen do? In this suffocating environment, a frustrated young man has shown that the youth still has the urge and will to be a good student as well as fight for a good cause. The nation is at crossroads and has to decide whether it needs people like Chatwal or Saif, or young men like Utsav Sharma who are brilliant students and yet fight back. It seems that in a corner of the country, Bhagat Singh is still alive. Thanks to Utsav.
(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English) - in February 20, 2010 Issue)

धन्यवाद! उत्सव शर्मा

उत्सव शर्मा देश की उस बेशर्म व्यवस्था को आईना दिखाता है कि जिसमें पुलिस से लेकर न्यायपालिका तक शामिल है। उत्सव के उत्साह ने हमारा आत्मविश्वास बढ़ाया है। क्रमश: पलायन करता विश्वास ठहर गया, लगा कि अभी शेष है सम्भावना। युवा ही कुछ कर सकते हैं। उत्सव ने कर डाला। हरियाणा के जिस चरित्रहीन डीजीपी राठौर को तब भी पुलिस और यह व्यवस्था बचा रही थी, उसने इस बार भी इसे बचा लिया। विडम्बना देखिए कि रुचिका मामले में यह राठौर कभी जेल ही नहीं गया और राठौर पर हमला करने वाला उत्सव आज जेल में है। चूंकि राठौर हम पर भारी था इसलिए हम उत्सव शर्मा के आभारी हैं।
उत्सव की पृष्ठभूमि प्रासंगिक है। उत्सव के पिता प्रोफेसर एस के शर्मा मैकेनिकल इंजीनियरिंग के प्राचार्य और मां प्रोफेसर इंदिरा शर्मा मनोविज्ञान की विभागाध्यक्ष रही हैं। यह दम्पति बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी का अति आदरणीय शिक्षक दम्पति माना जाता है। इनका इकलौता बेटा 'उत्सव शर्मा' भी बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी का फाइन आर्ट का स्वर्णपदक प्राप्त स्नातक है और वर्तमान में वह एनीमेशन फिल्म पर काम कर रहा था। वह प्राय: समाज में बढ़ते अन्याय को असहनीय बताता था। वह पाखंडी नहीं था इसलिए नारेबाजी करने के बजाय प्रतिकार करने की पहल भी उसी ने की। उत्सव शर्मा ने सिद्ध कर दिया है कि देश की तरुणाई में अभी भी अन्याय का प्रतिकार करने की दम है और व्यवस्था राक्षसों की रक्षा में मुस्तैद। उत्सव शर्मा आज जेल में है और राठौर कभी भी जेल नहीं भेजा गया, यह भी एक सवाल है।
सवाल पत्रकार साथियों से भी है कि वे तब कहां थे जब हरियाणा का यह डीजीपी पुलिसिया रौब में दुर्योधन बना चारित्रिक चीर हरण किया करता था। तब वह डीजीपी था। अधिकांश पत्रकार साथी 'रिस्क' नहीं लेना चाहते थे। लगभग 10 वर्ष पहले मैंने एक किताब लिखी थी ''आर्तनाद-मानवाधिकारों की उपेक्षा और अपेक्षा'' के अंश को यहां प्रस्तुत कर रहा हूं ताकि पाठक राठौर का सच भी जान सकें।
''रुचिका गिरहोत्रा उस समय 14 वर्षीय उदीयमान टेनिस खिलाड़ी थी। वह एक बैंक अधिकारी की लड़की थी और चंडीगढ़ के पास स्थित पंचकुला के एक अभिजात्य स्कूल की छात्रा थी। एस पी राठौर उस समय पुलिस महानिदेशक (आईजी) थे और नई बनी हरियाणा लॉन टेनिस एसोसिएशन के अध्यक्ष थे। 12 अगस्त, 1990 की बात है रुचिका और उसकी साथी रीमू एसोसिएशन के ऑफिस पहुंचे कि जो राठौर के निवास में ही गैरेज में बनाया गया था। राठौर ने रीमू को किसी बहाने से बाहर भेज दिया और रुचिका के साथ कामांध होकर छेड़छाड़ की। यह बात यद्यपि रुचिका ने रीमू को तो बताई लेकिन अपने माता-पिता को नहीं बताई।
दूसरे ही दिन यानी 13 अगस्त को राठौर ने एक दारोगा को रुचिका को बुलाने उसके घर भेजा। सहमी हुई रुचिका ने गुजरे दिन की अशोभनीय घटना की पुनरावृत्ति के भय से जाने से इनकार किया, जिस पर दारोगा का रुख सख्त हुआ।
इस प्रकार पुलिस महानिदेशक राठौर को 'खुश' करने से मुकरने के अंजाम से आशंकित रुचिका अपनी मित्र रीमू के यहां पहुंची और वहां रीमू की मां को सारी दास्तान बताई। रीमू की मां श्रीमती मधु प्रकाश ने यह घटना रुचिका के माता-पिता को बताई।
रुचिका के पिता ने पूरे मामले की लिखित शिकायत राज्य के गृह आयुक्त से की जिन्होंने सम्पूर्ण प्रकरण की जांच राज्य पुलिस के मुखिया द्वारा किए जाने के आदेश दिए। जांच में राठौर पर लगे आरोप प्रथम दृष्टया सही पाए गए कि जिसके आधार पर राठौर के खिलाफ अभियोग दर्ज करने का आदेश हुआ। इसके बाद के कई वर्षों तक यह फाइल कहीं खो गई।
अपने पुलिसिया पद और पहुंच के मद में चूर राठौर ने रुचिका का पीछा नहीं छोड़ा। सादा पोशाकों में राठौर के मातहत पुलिसिया गुंडे रुचिका के पीछे पड़ गए। रुचिका को स्कूल छोड़ना पड़ा। रुचिका के छोटे भाई को मात्र 9 वर्ष की आयु में ही 11 आपराधिक मुकदमे में फंसा दिया गया।
उल्लेखनीय है कि यह सभी मुकदमे भी राठौर द्वारा रुचिका के साथ असफल बलात्कार की घटना के बाद ही दर्ज हुए। रुचिका का परिवार उसकी सुरक्षा करने में असमर्थ हो चला। पुलिसिया उत्पीड़न से त्रस्त रुचिका ने 29 दिसम्बर, 1993 को आत्महत्या कर ली।
अब तक घूसखोर बाबुओं द्वारा लापता करार दे दी गई फाइलों को ढूंढ़ने और कागजात जुटाने में श्रीमती मधु प्रकाश को सात साल लग गए।'' अंत में सर्वोच्च न्यायालय के हस्तक्षेप से सीबीआई ने भारतीय दंड संहिता की धारा-364, 376/511 (गरिमा और शील भंग का प्रयास) 'आरोप-पत्र' राठौर के विरुद्ध दाखिल कर दिया। मुकदमा चला, सजा हुई और जमानत भी हो गई लेकिन राठौर को एक दिन भी जेल नहीं जाना पड़ा किन्तु 'उत्सव शर्मा' जेल में है। कामुक एस पी एस राठौर को तब भी व्यवस्था बचा रही थी और जब न्याय से ऊबे नागरिक ने कानून अपने हाथ में लिया तब भी व्यवस्था राठौर की ही पक्षधर, पैरोकार और अंगरक्षक बनी दिखाई दे रही है।
ऊबा नागरिक और कर भी क्या सकता है? इस घुटन में राक्षस राठौर जैसों का दम्भ एक ऊबे नौजवान नागरिक ने तोड़कर बता दिया कि देश की तरुणाई में अभी भी पढ़ने और अच्छे काम के लिए लड़ने का जज्बा है। देश दोराहे पर है उसे तय करना ही होगा कि सैफ, चटवाल जैसे लोगों की जरूरत है या उत्सव शर्मा जैसे पढ़ने और लड़ने वाले नौजवानों की। देश के किसी कोने में ही सही पर भगत सिंह जिंदा है। धन्यवाद उत्सव!
पापी कौन, मनुज से उसका न्याय चुराने वाला
या कि न्याय छीनते विघ्न का शीश उड़ाने वाला
(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English) - in February 20, 2010 Issue)

Friday, February 5, 2010

Award and afterward

Look at the list of Padma award recipients this year. There is one 'cheat', one tannery owner, one extremist and one philanderer gracing the list. Who is this Sant Singh Chatwal? Why has he been awarded Padma Bhushan? What did our president and prime minister find so extraordinary in them to give them the celebrated civilian awards?

Sant  Singh Chatwal is known as a cheat in India and a businessman in USA. Now we can presume that this is the ultimate cheating by Chatwal. As per CBI and police records, Sant Singh Chatwal is a "proclaimed offender". The CBI hunted him for 14 years as "one of the most wanted criminals." India requested the USA to arrest him and extradite him to India.

Earlier, when he was a budding criminal he was arrested with his better half at Mumbai on February 2, 1997 and sent to jail on charges of cheating a bank. Once again he cheated Bank of India in India of Rs 28.32 crores and Bank of India New York branch of billions of dollars. The CBI filed charge-sheets against him in several cases but before they could prosecute him Sardar Manmohan Singh came to power and things changed their course. Now Chatwal is the proud recipient of a Padma Bhushan. Earlier he had been bestowed the Rajiv Gandhi Award, a private award instituted by Sardar Charan Singh Sapra, a Mumbai-based businessman and vice president of state Congress.  The Rajiv Gandhi Awards were later abandoned on the behest of Priyanka Gandhi.

The character of our government is as mysterious as of Chatwal. The Government of India has mysteriously withdrawn all cases against him and restrained CBI from filing any charge-sheet against him. Now, hopefully we must wait till the next occasion when Ottavio Quattrocchi will probably be getting Padma Bhushan for greasing the Bofors gun supply deal and thereby coming to the support of Indian defence. Probably the decision-maker and the decision-taker for these awards felt impressed by characters like Chatwal, Saif or any Mirza, but we must not keep quiet as this is grave injustice against persons like Dawood Ibrahim, Abdul Kareem Telgi and the departed soul of Harshad Mehta. We are culturally accursed to reward "Vibhishans" and now Afzal Guru who has been praying to the President for pardon, has reasons to feel optimistic for he too could be considered to have done 'distinguished service to the Nation' as per the value system prevalent in the PMO.

The list of awardees who  have done "such a distinguished service to the Nation" includes Saif Ali Khan who has been awarded only Padm Shri . His 'achievements' do not need as deep a research as for Chatwal. Saif Ali Khan and his father, a famous cricketer Mansoor Ali Khan Pataudi were found ineligible to retain even a gun licence as they had indulged in crime. So their gun licences issued by Gurgaon administration were cancelled. Saif had killed a black deer and faces prosecution in other cases too. He had abandoned his previous wife Amrita and a minor child. Apart from his criminal antecedent we all have seen him flirting with Kareena  Kapoor in a hyped pre-marital relationship which offends Indian ethos and basic tenets of our culture.
Another recipient of Padma Shri is Ghulam Mohammad Mir. He is from Jammu and Kashmir. His "distinguished service" finds mention nowhere except in police record. According to police record he was a terrorist, a proclaimed offender, tried for several heinous cases including mine blast, extortion and kidnapping.

Another recipient of Padma Shri needs a special mention. Unlike the earlier two examples, he is not a polluter of society but of environment. Mirza Irshad is a known expert in the tannery business and is one of the top leather exporters. His firm is one of the prime polluting units of Kanpur which is discredited as a major contributor to pollution in the Ganga. The tannery lobby at Kanpur had the last laugh at the end of the day of 26 January this year when Mirza procured the award. He is the man representing the trade.

There are 402 polluting tanneries in Kanpur out of which 220 were found extremely polluting the environment in general and Ganga in particular. It remains to be seen how the anti-pollution laws are enforced now. There is a long list of such tainted men. Is it a case of "birds of the same feather flocking together?" When the award itself is abused, we too have a right to abuse the awardees.

(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English) - in February 13, 2010 Issue)

गर्त में गरिमा

हे भारत की राष्ट्रपति! आपने हमें निराश नहीं किया। हमें आपसे यही आशा थी। अफजल गुरु को अभी आपने शायद अगले गणतंत्र पर पद्‌म भूषण देने के लिए बचाकर रखा है। दिग्वजय सिंह आजमगढ़ जाकर बटला हाउस में पुलिस की दिन-दहाड़े हुई मुठभेड़ में मारे गए आतंकियों की जन्मभूमि के दर्शन तो करेंगे, लेकिन इस मुठभेड़ में शहीद हुए दिल्ली पुलिस के इंस्पेक्टर मोहन चन्द्र शर्मा के घर भी ये कभी गए? नहीं। इनसे भी यही आशा थी। निश्चय ही हमारा गणतंत्र एक षड्‌यंत्र में बदल चुका है, जहां देशद्रोही पुरष्कृत और देश-प्रेमी तिरस्कृत हैं।

राष्ट्रीय गौरव के पुरस्कारों की सूची अब शातिरों का सूचकांक है। गौर करें एक ठग, एक चरित्रहीन अपराधी, एक  कातिल आतंकवादी, एक चमड़ी उधेड़कर व्यापार करने वाला अब हमारे राष्ट्रीय गौरव हैं। गुणों की इस मूल्यांकन पद्धति पर गौर करें। राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल और संत सिंह चटवाल के इतिहास में कुछ 'खास' है। दोनों में बड़ी समानता है। दोनों ने भारतीय बैंक प्रणाली की 'उस ओर' से समीक्षा कर समृद्धि पाई है। प्रधानमंत्री सरदार मनमोहन सिंह और सरदार संत सिंह चटवाल में भी एक उल्लेखनीय समानता है। दोनों ही परस्पर पृथक कारणों से देश की 'मोस्ट वांटेड' सरदार हैं।

अब जरा पद्‌मभूषण सरदार संत सिंह चटवाल द्वारा की गई 'राष्ट्र की उन उल्लेखनीय सेवाओं' का संदर्भ लें जो पुलिसिया दस्तावेजों में दर्ज हैं। ठगी के एक मामले में मुंबई पुलिस ने 2 फरवरी 1979 को चटवाल को गिरफ्तार कर हवालात में फुटबाल बनाकर जेल भेज दिया था। इसी ठगी प्रकरण में चटवाल की पत्नी भी उसके साथ गिरफ्तार की गई थी। उसने भारत में बैंक ऑफ इंडिया को करीब 29 करोड़ रुपए का चूना लगाया और बैंक ऑफ इंडिया की ही न्यूयार्क शाखा से भी कई मिलियन डॉलर की ठगी की। चटवाल का यह चरित्र है कि वह भारत में ठगी करता है और अमेरिका में रहता है। सीबीआई की सूची में वह 10 वर्षों तक 'मोस्ट वांटेड' इनामी अपराधी रहा है। उसकी गिरफ्तारी के लिए 'रेड कार्नर-नोटिस' भी पूरी दुनिया में जारी हो चुका है और अमेरिका से उसके प्रत्यर्पण की गुजारिश भी की गई थी। लेकिन गुजरे सात वर्षों में सब कुछ बदल गया। सरदार मनमोहन सिंह इधर प्रधानमंत्री बने उधर 'कुछ ऐसा हुआ' कि चटवाल के खिलाफ सीबीआई ने कार्यवाही करना ही बंद कर दिया। वह फिर से भारत में अपना जाल फैलाने लगा। इस बार उसने बैंक को नहीं पूरे राष्ट्र को ही ठग लिया। वह अब 'चार सौ बीस चटवाल' नहीं पद्‌मभूषण सरदार संत सिंह चटवाल बन चुका है।

पद्‌म श्री से सम्मानित हुए फिल्मी सितारे सैफ अली खान को सभी जानते ही होंगे। इस फिल्मी सूरमा की 'राष्ट्र के प्रति विशिष्ट सेवाओं' पर जब शोध किया गया तो पता चला कि वह मशहूर क्रिकेटर नवाब मंसूर अली खां पटौदी के बेटे हैं। उनकी मां शर्मिला टैगोर हैं। उन्होंने बड़ी बेरहमी से काले हिरन का शिकार किया था, जिसका मुकदमा अभी चल रहा है। उन्हें गुड़गांव के जिला प्रशासन ने बंदूक के लाइसेंस रखने योग्य न पाकर उनका लाइसेंस रद्‌द कर दिया है। अमृता नामक महिला से उन्होंने पहली घोषित शादी की थी, किन्तु उसे और अपनी एक संतान को लावारिस छोड़ यह किसी करीना कपूर का करीने से काम लगाने के कारण चर्चा में रहा। ब्याहता पत्नी और अपने बच्चों को लावारिस छोड़ देना, विवाहेतर संबंध, रखना, हिरनों को मारना यह सभी 'राष्ट्र की विशिष्ट सेवाएं हैं।' न समझ सके हो तो किसी 'सरदार' से समझो या 'असरदार' से समझो।

पद्‌म श्री पाकर खुद सम्मानित और हमें अपमानित करने वाले राष्ट्र के तीसरे विशिष्ट सेवक हैं- गुलाम मुहम्मद मीर। यह जम्मू-कश्मीर के इनामी आतंकवादी हैं। हत्या, लूट डकैती के दर्जनों मुकदमे इन पर दायर हैं। भारतीय सेना पर घात लगाकर हमले करने में दक्ष इस आतंकवादी को बारूदी सुरंग बनाने में महारथ हासिल है।

एक और पद्‌म श्री हैं मिर्जा इरशाद। कानपुर-उन्नाव में इनका जानवरों की खाल खींचकर चमड़ा बनाने का कारोबार है। कानपुर में मिर्जा इंटरनेशनल लिमिटेड नामक इनकी फर्म है, जो चमड़े का निर्यात करती है। इनकी तीन इकाइयां हैं। कानपुर में चमड़े का कारोबार करने वाली 402 टेनरी हैं, जो गंगा में प्रदूषण फैलाने के कारण खदेड़ी जा रही हैं और अब कुल 220 बची हैं। यह सभी बड़ों की हैं। प्रदूषण वालों और प्रशासन से बात करने के लिए इस खाल व्यापारी गिरोह ने अपना सरगना बनाकर अब पद्‌म श्री का तमगा खरीद लिया है। राष्ट्रीय गरिमा को गर्त में धकेलने वालों की एक लंबी सूची है। यह नहीं कि इस तरह के पापियों को पहली बार पुरस्कार दिए गए हों। इसके पहले भी ऐसा हुआ है। सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के स्वयंभू सूरमा अटल बिहारी वाजपेई जब प्रधानमंत्री थे तब सन्‌ 2000 में संडीला (हरदोई) की कुद्दैशिया बेगम को भी ऐसी पद्‌म श्री पुरस्कार दिया गया था। इनका इतिहास यह था कि उन्होंने संयुक्त प्रांत के अंग्रेज गवर्नर की रात अपनी विशिष्ट सेवाओं से गुलजार की थी। सुबह इस विशिष्ट सेवा से खुश होकर अंग्रेज गवर्नर ने इनको 'बेगम' की उपाधि और इनके मियां एजाज रसूल को मेहरबानी में 'नवाब' बना दिया। पाकिस्तान विभाजन की विभीषिका के दौरान यह सड़क पर उतर आईं और नारे लगाती घूमीं 'लड़कर लेंगे पाकिस्तान।' भ्रष्टाचार में आकंठ डूबे संजय गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान के निदेशक डॉ. महेंद्र भंडारी भी चटवाल के ही चरित्र के थे।

मैं इन बेपनाह अंधेरों को/सुबह कैसे कहूं?
मैं इन नजारों का/अंधा तमाशबीन नहीं।
(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English) - in February 13, 2010 Issue)

Friday, January 29, 2010

So, speak up

A long time ago we had killed Gandhi and now, a mature melancholy is spread nation-wide. Words are frozen, direction leads nowhere, the magnetic compass stands indifferent. The noise of machine and voice of mischief is always there day and night making you incapable to keep awake during the day and not allow you to sleep in night. One innocent question arrogantly and abruptly rises before us – What should we do in these circumstances? Is there any answer? If 'no', come with me. If 'yes', lead me. The better proposition or the probationary position would be to march shoulder by shoulder. With the real Gandhi gone, beware of spurious Gandhis and a spurious democracy.

The Judiciary has the answer, Executive has the answer, Legislature also has the answer and even Press has the answer. But nobody is coming forward to provide it. Why? Because they do not intend to. We are always brave in carrying a convenient truth. We don't want to become Gandhi or Galileo. We don't have the courage and conviction to make a jump to uncertain unknown future in lieu of a certain present although we have a long list of the persons who have done so. We can recall a few such Columbus who could manage to keep afloat to reach the sea shore but who failed to reach the end, sank in the sea and are lost ever in our memories. And you must be alert and hear consciously the debate going on the topic of globalization which has no axis, longitude and latitude. There is no interval to this nightmare.

Statistics say that there is a polarization of properity at one end and poverty at other, making the Indian society bipolar. The middle class is losing its meaning and merging to emerge at either side. They are a confused lot. They want to pretend to be rich and in this process they have started looking rich in exterior and have become poorer in their interior. Since Independence there is a steep rise in salary of Administrative officers up to the tune of 7300 percent but what about you? Has your prosperity also increased in the same proportion? I wish to be affirmative but it is not to be. Be it Judiciary, Legislative or Executive everybody has indulged in increasing their salary even without taking you, the people of India, in confidence. Have ever they have taken your mandate? We are marginalised to be reduced as meaningless. We are mere passive spectators. They play us like an instrument whenever they want to play the music of democracy. Our marginalised muffled voice needs an explosive expression but for the want of direction and dictionary we have no place and no words to express our accumulated anguish and agony of our 'dependence' over this type of 'independence'.

We vehemently prayed for justice for last 60 years but there seems no sensitivity of justice in the statue of justice. Justice lacks 'equity', 'trust' and 'faith'. Justice is often a 'circumstantial compromise'. It cannot be classified as 'right' or 'wrong'. Justice is 'just' or 'appropriate' and not always 'accurate'. In our strife-torn society with conflicting interests what is just for one is unjust for others. Where the 'State' is the biggest litigant, to whom are the courts justifying their existence and expenditure? They are just by doing justice to whom – State or litigants? These courts mostly interpret and implement the law which was never enacted by our Legislature. Most of our laws had been enacted by British Parliament so the courts in India are 'often' just towards the state by giving interpretation of an alien law in an alien language. There is a lighter side of law – mainly fed by the ignorance and foibles of men. There are few places where the amusing and exasperating side of human nature can be watched so closely and continually as in a court of law.

The sinful dogma of democracy is the discrimination of the citizens on the line of gender. We need not peep into the undergarments to find out the gender as to whether a citizen is a male, female or simply 'e-mail'. Our citizens must have their own identity rather than being stooges, like so many in top positions our country today. We are yet to give effect to the dreams of Mahatma Gandhi. In a Country where even 'Father of the Nation' was assassinated, how long can we elude the same fate? Gandhi was killed long ago and we have to fight the assassins of democracy before they kill us. Silence is the best defense for a coward. In your bedroom a blanket awaits to warm you. If not, then come out if you have the courage and conviction. There are only two options – 'connivance' for cowards or 'conviction' for those who still want to take the country forward.
(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English) - in February 6, 2010 Issue)

विकल्प नहीं संकल्प

गांधी की हत्या तो हम सब कर ही चुके हैं और अब बिखरी है हमारे बीच एक प्रौढ़ उदासी। शब्द सहमे हैं, दिशाएं संज्ञाशून्य हैं, कुतुबनुमा स्तब्ध है। मंत्र और षड्‌यंत्र का शोर आपको दिन में ढंग से जागने नहीं देता और रात को ठीक से सोने भी नहीं देता। ऐसे में एक मासूम सा सवाल खड़ा होकर पूछ ही बैठता है - हम क्या करें? है कोई उत्तर?

इस सवाल का उत्तर न्यायपालिका के पास है, व्यवस्थापिका के पास है, विधायिका के पास है, पत्रकारिता के पास भी है पर कोई भी उत्तर दे नहीं रहा, क्यों? देना ही नहीं चाहता है। हम सुविधाजनक शब्दों के ही पराक्रमी पल्लेदार हैं। हम गांधी या गैलीलियो नहीं बनना चाहते। निश्चित वर्तमान के बदले अनिश्चित भविष्य में छलांग लगाने वालों की लंबी फेहरिस्त में कुछ कोलम्बस तो हमें याद हैं बाकी तो डूब मरे समुद्र के खारी पानी में। इस बीच कोलम्बस और गूलर के भुनगों के बीच वैश्वीकरण की जो बहस चल पड़ी है उसका न कोई अक्षांश है, न देशान्तर, न इस महास्वप्न का मध्यान्तर।

आंकड़ों की अंगड़ाई से स्पष्ट है कि देश में इस बीच समृद्धि भी बढ़ी है और गरीबी भी। मध्यम वर्ग असमंजस में है अमीर दिखना चाहता है और इस प्रयास में गरीब होता जा रहा है। देश की आजादी से अब तक प्रशासनिक अधिकारियों की तनख्वाह में 7300 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई है क्या आपकी भी समृद्धि इसी दर से बढ़ी है? न्यायपालिका हो, विधायिका या व्यवस्थापिका सभी ने स्वयं ही बिना आपसे कोई जनादेश लिए आपकी मुफलिसी का मजाक उड़ाते हुए अपनी तनख्वाह बढ़ा ली और आप देख रहे हैं टुकुर-टुकुर बेजुबान जानवरों जैसे। वेदना को कहीं कह सकने, कहीं उकेर सकने में सक्षम समृद्ध शब्दकोश भी आपके काम नहीं आ रहे। न्यायपालिका का न्याय का संवेदनशील चेतन चेहरा नहीं दिखाई। वहां तो न्याय की मूर्ति यानी न्यायमूर्ति बैठे हैं। मूर्ति हैं तो जड़ होंगे ही फिर आप न्यायिक चेतना की अपेक्षा ही इनसे क्यों करते हैं। 'जस्टिस' तो 'जस्ट' यानी 'उचित' करेगा। किसके लिए उचित 'सत्ता' के लिए या 'जन-गण-मन' के लिए? हमें तो 'न्याय' चाहिए और 'न्याय' का अंग्रेजी अनुवाद है ही नहीं जबकि हमारी न्याय की भाषा तो अंग्रेजी है तो झेलो 'जस्टिस'। जब 'न्यास' यानी ट्रस्ट होगा तभी वह 'न्याय' करेगा। यह न्यायपालिका किस जनादेश से मान्यता प्राप्त है। बात-बात में चुनाव होने वाले इस देश में क्या कभी इसलिए भी चुनाव हुए हैं कि नागरिकों से पूछा जाए कि तुम किस तरह की संसद, विधानसभाएं चाहते हो, कैसी हो तुम्हारी न्यायपालिका और नौकरशाही उनकी तनख्वाह और वेतन भत्ते क्या हों? देश में सबसे कम और सबसे अधिक वेतन का अनुपात क्या हो? जब विसंगतियों की सीमाएं ही नहीं हैं तो कैसा समाज कैसा 'लोकतांत्रिक कल्याणकारी समाजवादी गणराज्य।' लेकिन यहां जनता कुछ नहीं तय करती। जनता जाति देखती है, चित्र नहीं, चरित्र नहीं, लिंग देखती हैं। सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश और दिनाकरन की जाति देखती है, राष्ट्रपति का लिंग देखती है, एक राष्ट्र में महाराष्ट्र बनाकर क्षेत्र देखती है तो फिर गुण तो गौण होंगे ही। नौकरशाही नियंता है और सभी प्रशासनिक अभियानों की अभियंता भी। पर सावधान। जहां मंथरा की चलती है वहां राम को वनवास हो ही जाता है। यह भी याद रखें कि किसी राम का वनवास और जनता का उपवास परस्पर जुड़ी बातें है।

जगह- जगह खींचे जा रहे द्रोपदियों के चीर से संसद के प्राचीर तक दुशासन ही दुशासन दिखाई दे रहे हैं। जब हमारे राष्ट्रपति की 'विशेषता' और 'योग्यता' जानने के लिए शोध की जरूरत हो और पुराने अखबारों की कातर कतरन चीख- चीख कर उनके बैंक घोटालों की चर्चा कर रही हों तब पुरस्कार पराक्रमियों को नहीं परिक्रमा करने वालों को ही मिलेंगे। चाटुकार चटवाल हों या करीना का करीने से काम लगाने वाले कामुक फिल्मी सूरमा सैफ। आप किस कतार में खड़े हैं- सरकार से पुरस्कार पाने वालों की या तिररुकार पाने वालों की?

मूर्तियों में वेदना भी नहीं होती और चेतना भी नहीं होती। हमें न्याय की मूर्तियां नहीं न्याय की चेतना चाहिए। हमें बांझ विधायिका भी नहीं चाहिए कि जो देश को कानून भी न दे पा रही हो क्योंकि हमारे प्राय: सभी प्रमुख कानून अंग्रेजों के बनाए हुए हैं। कल्पना कीजिए कि वह चाहे गांधी के हत्यारे गोडसे हों या गुरु अफजल सभी पर मुकदमा चलाने का 'तंत्र' विदेशी था। वहीं अंग्रेजों का बनाया कानून, अंग्रेजों की बनाई बिल्डिंग और भाषा भी अंग्रेजी। बहुत हो गया देश की अस्मिता की रक्षा के लिए हमें देश का देशी कानून चाहिए, जस्टिस नहीं न्यायाधीश चाहिए। स्त्री, पुरुष या किन्नर की क्या कहें व्यक्ति श्रेष्ठ होना चाहिए। भारत एक चिन्हित और संबोधित जा सकने वाली इकाई का नाम हो तभी गांधी के सपनों का भारत बनेगा। उस गांधी के अलावा शेष सभी गांधी फर्जी हैं। जिस देश में गांधी की हत्या हो चुकी हो उसमें अब हमारी-तुम्हारी ही बारी है। अगर कायर हो तो चुप रहो, रजाई तुम्हारी प्रतीक्षा कर रही है। अगर दम है तो बाहर निकलो। कुछ तो बोलो। अभिव्यक्त को सारे खतरे उठाने ही होंगे, लेना होगा सच बोलने का संकल्प। यह द्वंद्व सच बोलने के संकल्प और शातिराना चुप्पी के विकल्प के बीच है। हम तो विकल्प नहीं संकल्प की बात करेंगे।

(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English) - in February 6, 2010 Issue)

Sunday, January 24, 2010

Replica of Republic

We have rushed to you in the New Year like a fresh breeze. Nothing has changed, though, except the calendar and once again we shall vindicate the victory of the Dictator. On our Republic Day January 26, we recite our National Anthem Jan-gan-man-adhinyak jai he Bharat bhagya vidhata… But have we ever wondered what it means in letter and spirit? Jan-gan means "we, the people" and adhinayak means "dictator" and jai means "victory". So, a plain and simple translation of our National Anthem would be: "We, the people, the down-trodden by their minds wish victory to the dictator who is the ultimate fountainhead of Indian fortune." We, the people of India have by their collective wisdom have adopted Democracy instead of Dictatorship. How then we can wish a victory for dictator? But we are compelled to do so.
One celebrated principle of logic is "an erroneous base sentence would always result in wrong conclusions." In electoral parlance, a conclusion means mandate. The base sentence of our National anthem is "Jan-gan-man adhinayak jai he" (We, the people collectively wish victory to the Dictator). The fundamental principle of democracy is that sovereignty 'belongs' to the people. Our Constituent Assembly has made the declaration that the sovereignty is 'derived' from the people. That is the dangerous departure from the generally accepted principle of democracy. We, the people of India have a pathetic tale of toil, torture and trauma seduced by the 'system' and adduced by the Dictator. We have had already flattered the Dictator for last 60 years expecting the democracy to deliver but in vain. Is mother India incapable to deliver?
Have a look at the leaders of our freedom movement- Gandhi, Tilak, Lala Lajpat Rai, Nehru, Subhash Chandra Bose, Bhagat Singh, Chandra Shekhar 'Azad', Ram Prasad Bismil and Ashfaq. They all were born before independence. But we did not produce even a single leader post-independence whom we could cite as an icon. In every society, youth needs an icon – actual or fictional – to emulate. If it is not Hanuman then it could be Pokemon. Since political leaders have lost their charm and bonafide so we have been left with no other option but to adopt personalities from our film industry or sports as icon. The youth of this nation does not want to be yet another Gandhi, Bhagat Singh, Chandra Shekhar 'Azad' or Subhash Chandra Bose. Rather, he would prefer to be like the Scindias. Or, if is Gandhi, then it is certainly not the Mahatma Gandhi type but of Rahul-Prinka type. Nobody knows what happened to the progeny of Rani Laxmi Bai of Jhansi but everybody knows about Scindias who opted to backstab the freedom movement in general and Laxmi Bai in particular by siding with the British. Scindia's are still ruling the roost be it BJP or the Congress. We are no more interested in the grandson of Nana Phadnavees or Tatya Tope who still reside at Bithoor (Kanpur). For us the blood and the blood line of Rani Laxmi Bai, Bhagat Singh, Bismil, Ashfaq etc are lost forever and who shall succeed the European origin Sonia? Obviously it will be the half-European Rahul.
We praise adhinayak and not the loknayak (mass leader). We are a clone of colonial Constitution. As in our National Anthem, we appear to stand in support of dictatorship instead of democracy. Be it Judiciary, Legislature, Executive or even the Press, every functionary is trying to impose its dictatorial superiority. Judges hesitate to declare their assets. It would be hundred per cent dishonest to say that the judicial system is honest. At the lower court, District Judge or Munsif Magistrate level one just has to watch the handshake between the Court's Reader (Peshkar) and litigants – their transaction is not of emotions alone.
We must talk about the dictatorial attitude of our Union Legislature that is Parliament. The nation has seen the goings-on live on television. The voice that addresses the nation from the ramparts of the Red Fort is that of a person who not widely known to the nation but the name is associated in hushed tones with a chit fund case, a cooperative society scam. Manmohan Singh also qualifies this debate. The Prime Minister is not elected but "appointed" in India so they are not the legitimate child of our "ballot" or to say democracy. Rather, they could be described as "test-tube baby" of this system.
(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English) - in January 16, 2010 Issue)

अधिनायक की जय करते खलनायक

लो हम आ गए हवा के  ताजे झोंके  की तरह। इस बीच कुछ भी नहीं बदला। बदला है तो बस कैलेंडर का फड़फड़ाता पन्ना। एक बार फिर 'गण' की सवारी करने तिरंगा हाथ में लेकर 'तंत्र' आ गया। गणतंत्र दिवस पर 'गण' गुनगुनाएगा ''जन-गण-मन अधिनायक जय हे! भारत भाग्य विधाता।'' कौन है और कैसा है भारत का यह 'जन-गण-मन' और क्यों अधिनायक की जय कर रहा है? 'अधिनायक' यानी तानाशाह की जय जहां होगी, वहां फिर लोकतंत्र कैसा? दर्शन शास्त्र की दो विधाएं हैं- नीतिशास्त्र और तर्कशास्त्र। तर्कशास्त्र का सिद्धांत है कि ''जब आधार वाक्य ही गलत होगा तो निष्कर्ष सदैव भ्रामक निकलेंगे।'' यही हो रहा है हमारे राष्ट्रगान के साथ। इसका आधार वाक्य 'जन-गण-मन अधिनायक जय हो' ही गलत है तो निष्कर्ष भी भ्रामक ही होगा। निष्कर्ष से यहां अभिप्राय 'जनादेश' से है। गुजरे साठ सालों में भारतीय 'जन-गण-मन' की कमर 'तंत्र' की तानाशाही ने तोड़ दी है और अधिनायक की जय-जयकार करते हुए देश में खलनायक तो खूब हैं पर 'लोकनायक' के जन्म की संभावना शेष नहीं है।

राष्ट्र के प्रतीक नामों पर गौर करें- गांधी, लोकमान्य तिलक, नेहरू, सुभाष चंद्र बोस, भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद, रामप्रसाद बिस्मिल, अश्फाक उल्ला, जयप्रकाश नारायण, सावरकर आदि-आदि। सभी आजादी से पहले जन्मे थे। स्वतंत्र होने के बाद देश का वातावरण ऐसा नहीं रहा कि इस तरह के एक भी प्रतीक चरित्र यह राष्ट्र पैदा कर पाता। परिणाम कि गुलाम भारत के युवाओं के प्रतीक सुभाष होते थे तो आज शाहरुख खान हैं। इसीलिए तल्खी में एक तनकीद की गई है- ''गालिब ने झुककर टैगोर के कान में कुछ यूं कहा- चुप रहो अब मुल्क का कौमी  तराना ईलू-ईलू हो गया।'' देश का युवा अब गांधी, भगत सिंह, सुभाष चंद्र बोस जैसा नहीं बनना चाहता। वह इस छल को जान चुका है कि राष्ट्र के लिए खून देने वाले लोग इस राष्ट्र के अधिनायकवादी तंत्र द्वारा भुला दिए जाते हैं और याद किए जाते हैं वह लोग जिनके बाप-दादे अंग्रेजों के समय चाटुकारिता कर रायबहादुर, राय साहब बने थे और आज भी आनंद में ओत-प्रोत हैं। रानी लक्ष्मीबाई के किसी वंशज का कहीं कोई पता है? वह भारत की स्वतंत्रता सेनानी थी इसीलिए। लेकिन 'सिंधिया' को सभी जानते हैं, जबकि इस खानदान द्वारा अंग्रेजों की तरफदारी करके रानी झांसी लक्ष्मीबाई मरवा दी गई थीं।

सांस्कृतिक राष्ट्रवाद का पाखंडी च्यवनप्राश खाने वाले भाजपाइयों को राजमाता सिंधिया आदरणीय लगती थीं, किंतु रानी झांसी का कोई वंशज नहीं। माधवराव सिंधिया सत्ता भोगे और छोड़ गए अपने पीछे ज्योतिरादित्य सिंधिया। उधर राजस्थान में भी वसुंधरा राजे सिंधिया भाजपा की कृपा से मुख्यमंत्री पद भोग चुकी हैं और यशोधरा राजे सिंधिया भी 'जन-गण-मन' की छाती पर सवार हैं। रामप्रसाद बिस्मिल की बहन शाहजहांपुर में चाय की गुमटी लगाए अगर उदास आंखों से तिरंगा देखती हैं तो देखा करें। बिठूर में नाना फड़नवीस और तात्या टोपे के खानदानियों का कोई पुरसाहाल नहीं है। तो 'अधिनायक जय हो' करते करते हमने किस 'भारत' के कौन से 'भाग्य विधाता' बना डाले? यह भारत तो भाग्यविधाता है राहुल, प्रियंका, ज्योतिरादित्य और जितिन जैसे लोगों का। हम तो इस राजतंत्र में रहते हुए मंथरा के वंशज बना दिए गए हैं। हम बच्चों को देश का लोकतांत्रिक संचालक स्वामी नहीं नौकर बनाना चाहते हैं। फिर चाहे वह प्रथम श्रेणी हो या चतुर्थ श्रेणी। 'अधिनायक' की जय जयकार करते हुए इतिहास की पगडंडियों पर हमारा जो उपहास हुआ है उसे हम भूले नहीं हैं। फिर भी लोकतंत्र के नाम पर षड्‌यंत्र करते हुए जो खलनायक 'अधिनायक' बन बैठे उन पर हमने कभी गौर किया? सत्ता के सभी अंग- न्यायपालिका, व्यवस्थापिका, कार्यपालिका अपनी-अपनी सुविधाओं की तानाशाही पर आमादा होकर 'अधिनायक जय हो' कर रहे हैं। न्यायपालिका का चेहरा भ्रष्टाचार के आरोपों से आक्रांत दिख रहा है लेकिन सर्वोच्च न्यायालय के जज अपनी संपत्ति सार्वजनिक करने से कतरा रहे हैं। भविष्य निधि घोटाला जैसे सुनियोजित घोटाले भी अब उजागर हो रहे हैं। मुलायम सिंह - अमर सिंह की कृपा से सर्वोच्च न्यायालय का एक मुख्य न्यायाधीश अगर नोएडा में बेशकीमती जमीनें पा जाता है तो दिनाकरन मुद्दे पर दूसरे खुलकर जातिवादी कार्ड खेलते नजर आ रहे हैं। वैसे भी 'न्याय' नागरिक को मुफ्त में तो नहीं मिलता। पेशकार अहलमद के गुलछर्रे का गणित तो सभी जानते हैं और किसका कौन खास है इसका भी ख्याल न्यायनीति निर्धारित करती है। लेकिन अवमानना का कानून हमें बोलने और पूछने से रोकता है। अब भला जज साहब से यह कौन पूछे कि- आप के पास आय के ज्ञात स्त्रोत से अधिक पैसा कैसे आया? कभी सुना है कि किन्हीं जज साहब के यहां आयकर का छापा? यह थी न्यायपालिका के अधिनायक की जय।

व्यवस्थापिका और विधायिका के अधिनायक की जय की भी बात हो जाए। लालकिले के प्राचीर पर खड़े होकर संपूर्ण राष्ट्र को अपने आगे नतमस्तक देखने वाली प्रतिभा पाटिल का नाम 'सोनिया कृपा' के पहले कितनों ने सुना था और सुना भी था तो क्यों? चिटफंड की धोखाधड़ी, चीनी मिल सहकारी समितियों की हेरा-फेरी की फेहरिस्त उतनी ही लंबी है जितना उनका वैभव। किन्तु आज वह राष्ट्रपति हैं- हुई न अधिनायक की जय। मुंडा हो, गुंडा हों, रेड्‌डी हों या गुरुजी सभी जगह खलनायक अधिनायक बनते प्रतीत हो रहे हैं और यह मनमोहन सिंह नामक प्रधानमंत्री बैलेट की वैध संतान है या लोकतंत्र के प्रयोग का परखनली शिशु यह तो बताओ हे मतदाता! तुम्हें पता है सब, फिर खामोश क्यों हो?
(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English) - in January 16, 2010 Issue)

Friday, January 22, 2010

Infected Socialism

  • Saifai warrior faces shaky ground
Nobody imagined that the belligerent Samajwadi Party shall one day appear cowed down - that too before a non-fighter. The bluff of aggression has been called, and the call of rebellion is getting conveyed to the portals of 10 Janpath.  All through this, the dimensions and ethos of the Socialism that started from Saifai (Etawah) have changed inevitably. The red-cap Socialism initiated by Ram Manohar Lohia, the socialism of legislator Natthu Singh from Karhal (Mainpuri), the socialism of 'Commander' Arjun Singh Bhadauria, Chaudhary Saligram  and Chaudhary Ram Swaroop of Kuiya village, the socialism that was the essence of Etawah's local  newspaper Desh Dharm started by veteran journalist Devi Dayal Dube - all have been left far behind by the present-day Samajwadi Party that appears doomed to suffer an ideological vacuum. In any case, the process to dispense with the dreams of Lohia had started in bits and pieces in 1980 itself, but the rot came to the surface only recently when the tycoon-Thakur Amar Singh voiced the words of rebellion after the ignominious defeat at Firozabad.

In the mean time, Socialism was taking an off-and-on ride on Subrata Roy Sahara's aircraft and the Cycle was nowhere to be found. The glorious cycle-borne Samajwadis were recalled only before elections. The decline of the socialist character has completed a full circle and a new innings has to start afresh. But then whose innings are we talking about - Prof. Ram Gopal Yadav, Akhilesh, Shivpal or Prateek? This untimely dilemma is stopping the Samajwadi struggle from coming out on the streets, and is keeping the ignominy confined to within closed doors. The party that once had the penchant to obstruct the passage to power of others now faces the same obstructions, albeit created by their own ilk. For instance, what kind of socialism was it that led Ram Singh Shakya to lay down a caste-based calculation to ensure the defeat of fellow socialist leader 'Commander' Arjun Singh Bhadauria from Etawah Lok Sabha seat in 1980? In the 90s, sending the late debutant Kanshi Ram of the BSP to the Lok Sabha from Etawah in a manner of cutting one's nose to spite the face was intended to announce the party's arrival on the political firmament in a big way, followed by a coalition government with BSP. And today, the same BSP and its chief Mayawati have ensured that the Samajwadi Party is close to extinction in Uttar Pradesh.

The socialism that started from Saifai has slowly but surely grown richer, only to acquire the face of an urban neo-feudalism. Samajwadi Party's socialism has got weakened but its economics has grown stronger. The political aces have been played. When bandit queen Phoolan Devi was brought into politics, it brought to the fore the Samajwadi party's anti-Thakur image since Phoolan Devi carried the charge of mass killing of Thakurs. The subsequent mysterious killing of Phoolan Devi in Delhi, the equally mysterious advent of Amar Singh in the power structure of Samajwadi Party, and then, the mysterious killing of entire family members of advocate Vijay Singh Sengar including himself in Etawah gave an indication of changing social and moral values in the party.

Convenience and comfort are increasingly becoming important for the party cadres who have lost the will and passion for struggle. The equations of caste seem to have lost their importance. The fragmentation could have been stalled only if Mulayam Singh Yadav had challenged the BSP, but he is very cleverly avoiding any such conflict. Instead of actually waging a political battle, he simply wants to be seen as doing so. Now not even a section of the press is standing with him in building his image because now he does not hold the strings of the discretionary fund he had with him.

The 'M-Y' (Muslim-Yadav) combination that had been formed on the debris of Babi Masjid, seems to have given way on this anniversary of the infamous demolition. Allahabad's Atiq Ahamad, Rampur's Azam Khan, Balrampur's Rizwan Zaheer have been thrown out like used packs. Kurmi leader Beni Prasad Verma, Lodhi leader Ganga Charan Rajput and Dhani Ram Verma have jumped off the sinking ship. It would appear that Mulayam Singh Yadav wanted only flag-bearers of his clout rather than self-respecting political activists. For this reason the Samajwadi Party is in a state of utter chaos, and everyone appears defeated even before the actual war has begun.

In between, there have been many transitions on the political scene. In 1984 there was a deadly attack on Mulayam Singh Yadav at Maikhera village near Karhal in Mainpuri. The then Karhal MLA Natthu Singh Yadav had stood like a rock with Mulayam. Even otherwise, credit goes to Natthu Singh for having brought Mulayam into active politics. That was the time when Mulayam too was overawed by the political and criminal clout of Balram Singh Yadav. Gradually Mulayam emerged as the only leader and other bastions of Yadav power were marginalised. Those being Natthu Singh's son Subhash Yadav in Karhal, Darshan Singh Yadav in Etawah, Ramsewak 'Gangapura', Ashok Yadav in Shikohabad, Latoori Singh in Etah and then his son Avadh Pal Yadav, D P Yadav in Bulandshahar, Umakant and Ramakant Yadav in Azamgarh and Mitrasen Yadav in Faizabad. Veteran Janeshwar Mishra - once revered as 'Chhote Lohia' - got marginalized. But unknown to the supremo, these very tricks soon gave way to the party's decline. Yadav politics was overshadowed by family politics, and now Samajwadi Party is no more a political party but is perceived as a business firm 'Mulayam Singh and Sons (P) Ltd' and 'Mulayam Singh Brothers (P) Ltd.' Yadavs often ask why is it that the daughters-in-laws of this so-called first family are from non-Yadav families. Will the Yadavs of Saifai accept Prateek also as a Yadav scion like Akhilesh? Has the Samajwadi Partys aged with Mulayam Singh or some force is still left in the youthful leadership of Akhilesh? And, what kind of revolution has been brought about by the likes of Jayaprada? Questions are many, answers are awaited.
(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English) - in January 16, 2010 Issue)