Saturday, March 27, 2010

Waiting for scarlet dawn

"Ill fares the land, to hastening ill a pray,
Where wealth accumulates and man decay..."
Who is the top litigant of the country? Who commits the most illegal activities in a year? Who kills the maximum number of people and commits maximum dacoities and road hold-ups in a year? Who has the largest amount of black money? Is Parliament which is struggling to get the Women's Reservation Bill passed aware of the fact that most child prostitutes in the world are from India? Let me answer these questions as they send shiver down the spine.
It would not be easily palatable to us but the fact remains that the 'Union of India' and the 'States' are the biggest litigants of the country. And, you will also be surprised to know that about 80 per cent of decisions of the Uttar Pradesh government are dismissed by the High Court as illegal and arbitrary. It means that about 80 per cent conduct of the government is not as per law.
The other state governments are no better than Uttar Pradesh. The state governments are indulging in the largest number of illegal activities. Last year, in Uttar Pradesh itself, 54 people were killed in police custody. In contrast, no other criminal gang has killed so many people in a year. And, in the last ten years, about 500 people were killed by the men in 'Khaki' called Uttar Pradesh police. The Bihar and the Madhya Pradesh police are not far behind holding the second and third place respectively. It is quite telling about the character of the government as per the government records. Now, the next question is which gang commits the maximum number of dacoities in a year? If you keep an eye on every crossing of roads in the country and states, the cops from the local police station or traffic police can be seen opening their hands before truck or taxi drivers for money. And, at night, the face of the police becomes furious and they intimidate common man at gunpoint. It is as common as its official denial. Obviously, this degeneration of democracy is only leading to anarchy. Again, one will be surprised to know that the largest amount of black money is neither kept by a politician, nor by an actor nor by a smuggler. Ironically, it is the officers of the income-tax, sales tax, customs and excise departments who are responsible for unearthing black money. In spite of that not a single complaint is registered against them in any court of law. Brother, the reality is that the judges of the Supreme Court are eager to know about the properties of everyone but they themselves are not willing to disclose their wealth that has been gathered from known or unknown sources.
When the government machinery including the income tax, sales tax, excise, customs, traffic and other category of officers and judges are making themselves rich through ill-gotten wealth, who will listen to your complaint? The condition is so pathetic that if you think of complaining against some corrupt official to his seniors, you will find that the officer is in good books of his superiors. Nirmal Yadav was the judge in the Punjab and Haryana High Court. There were serious allegations of bribery against her. The mighty judiciary came to her rescue and she was appointed the Chief Justice of the Uttarakhand High Court as a reward for her misdeeds. The people of the country who are being killed slowly by these corrupt bribe takers suffer the pain of death without creating any fuss. Many theories are being propounded at the Para-scientific and Para-psychic levels. Some say that there is a hole in the ozone layer leading to leakage of oxygen from the earth's atmosphere. But no one says that there is a hole in the economy of the country, which is leading to outflow of black money. Some say that because of global warming the earth's temperature is rising, but no one says that the blood of the people has become cold. Another startling fact, as revealed by the renowned economists of the country is that the nation's 50 per cent of gross domestic product is made up of the money which is doing the rounds in speculation and smuggling. And so, its evaluation in nation-building would be meaningless and self-deceiving. According to an estimate, the volume of the country's economy is Rs 61, 64, 000 crore. Out of this amount, a sum of Rs 25 lakh crore is used in bribery and black marketing.
So, when the government is spending most of its time and resources in illegal work; when the sitting judges are reluctant to reveal their wealth; and the legislature is unable to bring out a valid legislation to check it; when the bureaucracy has become the tormentor and the police a gang of thieves, should we not build a new society, a new polity and a new culture?

We will have to take a chance and be more expressive of our depressed feelings without bothering about the consequences. If we cannot laugh together, can't we cry together? I know very well that it is a situation of crying in wilderness and it will not be heard by others. But if we cry together aloud, many wolves will run away from the forest.  And, it will be a new dawn for us.
(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English))

समान्तर सवाल

देश का सबसे बड़ा मुकदमेबाज कौन है? सबसे अधिक गैर कानूनी काम कौन करता है? साल में सबसे अधिक हत्या, सबसे अधिक राहजनी कौन करता है? वह कौन गिरोह है कि जो गुजरे दस सालों में पांच सौ से अधिक हत्याएं कर चुका हो? सबसे अधिक काला धन किसके पास है? महिला आरक्षण बिल पास करने की जद्‌दोजहद से जूझ रही संसद को क्या इसका संज्ञान है कि विश्व की बाल-वेश्याओं में भारत की बेटियां सबसे ज्यादा हैं? इस सिहरा देने वाले प्रश्नों के सार्थक उत्तर भी देता चलूं।
'भारत संघ' और 'राज्य' देश के सबसे बड़े मुकदमेबाज हैं। उत्तर प्रदेश राज्य सरकार के लगभग 80 प्रतिशत फैसले उच्च न्यायालय में खारिज कर दिए जाते हैं। यानी उत्तर प्रदेश सरकार का लगभग 80 प्रतिशत आचरण विधि सम्मत नहीं है या गैर कानूनी है। उत्तर प्रदेश जैसा ही हर राज्य सरकार का हाल है। उत्तर साफ है– सबसे अधिक गैर कानूनी काम राज्य सरकारें कर रही हैं। गुजरे साल उत्तर प्रदेश में पुलिस अभिरक्षा में 54 लोग मारे गए थे। किसी भी अन्य गिरोह ने एक साल में इतने लोगों की हत्या नहीं की और दस साल में तो लगभग पांच सौ लोग उत्तर प्रदेश पुलिस के वर्दीधारी गिरोह ने मार डाले। बिहार और मध्य प्रदेश पुलिस क्रमश: दूसरे और तीसरे स्थान पर रही। यह तो था सरकार के चरित्र के बारे में सरकारी रोजनामचों में दर्ज सरकारी सच। अब अगला सवाल था कि वह कौन सा गिरोह है जो सबसे अधिक राहजनी करता है? देश-प्रदेश के लगभग हर चौराहे पर भिखारियों की तरह ट्रक-टैक्सी वालों के आगे फैले हाथ वहां के स्थानीय थानों की पुलिस-ट्रैफिक पुलिस के ही होते हैं और रात को इस कार्रवाई में पुलिस के हथियारबन्द सिपाही उगाही करते देखे जा सकते हैं। क्या इस प्रत्यक्ष को प्रमाण की भी जरूरत है?
सबसे अधिक काला धन किसके पास है? नेता? - नहीं, अभिनेता? - नहीं, स्मग्लर -? नहीं, इनके यहां काला धन पकड़ने वालों के पास सबसे अधिक काला धन। आयकर के अधिकारी, बिक्रीकर के अधिकारी, कस्टम, एक्साइज के अधिकारी। फिर इन पर कहीं किसी अदालत में कोई शिकायत क्यों नहीं होती? अरे भाई, हकीकत जानिए, देश की सबसे बड़ी अदालत यानी सर्वोच्च न्यायालय के जज साहबान पूरे देश की सम्पत्ति जानना चाहते हैं पर अपनी सम्पत्ति का खुलासा करने से मुकर गए हैं। आयकर, बिक्रीकर, कस्टम, एक्साइज, ट्रैफिक ऑफिसर और विभिन्न श्रेणी के तमाम कर्मचारी, अधिकारी, पेशकार और कई जज साहबान। अब किससे शिकायत करेंगे आप।
सोचा था कि साहब से शिकायत करेंगे,
लेकिन वह कमबख्त भी उनका चाहने वाला निकला।
पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय की एक जज थीं निर्मल यादव। उन पर घूसखोरी के घनघोर आरोप थे। सक्षम न्यायपालिका और सरकार उनके बचाव में उतर आई और उन्हें पुरस्कार में देव भूमि उत्तराखंड उच्च न्यायालय का मुख्य न्यायाधीश बना दिया गया।
देश की 'हलाल' होती जनता देश में 'हराम' करते इन हरामखोरों, घूसखारों के भ्रष्टाचार पर ध्यान न दे, इसके लिए विद्वान अपनी परिकल्पना से परावैज्ञानिक और परमवैज्ञानिक प्रतिस्थापनाएं प्रतिदिन प्रतिपादित करते हैं। कोई कहता है ओजोन की परत में छेद है और ऑक्सीजन का भूमंडल से रिसाव हो रहा है। कोई नहीं कहता कि देश की अर्थव्यवस्था में छेद है और उससे कालेधन का प्रवाह हो रहा है। कोई कहता है ग्लोबल वार्मिंग है। भूमंडलीय तापमान बढ़ रहा है। कोई नहीं कहता है कि जनता ठंडी पड़ रही है। भारतीय अर्थव्यवस्था के स्वयंभू जानकारों का आकलन यह है कि देश के सकल घरेलू उत्पाद का लगभग 50 प्रतिशत घूस, सट्‌टा,  तस्करी में लगा धन है जिसका राष्ट्र निर्माण में आकलन करना ही बेमानी और बेइमानी है। चूंकि भारतीय अर्थव्यवस्था का आकार 61 लाख 64 हजार करोड़ है जिसमें अनुमानत: 25 लाख करोड़ रुपए घूस, तस्करी और अन्य काले कारोबार के टर्नओवर में सक्रिय है। सवाल है कि जब सरकारें अपना अधिकांश समय और संसाधन गैर कानूनी अवैध कामों में लगा रही हों। न्यायपालिका के पीठासीन जज अपनी सम्पत्ति का खुलासा करने से कतरा रहे हों, इस पर नियंत्रण लगाने के लिए विधायिका बांझ नजर आए और किसी भी सार्थक कानून को जन्म न दे सके, नौकरशाही जन उत्पीड़क हो, पुलिस कातिलों का गिरोह और राहजन बन चुकी हो तब एक नए समाज, नई राजनीति, नई संस्कृति का सृजन करना ही होगा। अभिव्यक्त को खतरे उठाने ही होंगे। अगर हम समवेत रूप से हंस नहीं सकते तो संवेद रूप से रो ही लें। मैं जानता हूं कि अरण्यरोदन की स्थिति है, यह पर तुम्हारे यों एक साथ, पुरजोर रोने से भी कई भेड़िये भाग जाएंगे और कदाचित एक नई सुबह आएगी।
''दिन तो होता है अम्बर में पर रात हमारी आंखों में,
सपनों को चुरा गया कोई, कुछ गीत सुनाने से पहले।''

(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English))

Friday, March 19, 2010

Cuss of currency

It was a strange sight that day. While the naked saints were busy washing off their sins in Kumbh, the leaders of a particular political party were busy in executing their nasty design by getting a garland of money prepared to propitiate their boss. Between these 'saints' and the 'evildoers', stands new Samvat era. And the common man sandwiched between the 'saints' and the 'sinners' gasps for breath.

What is happening everywhere is unfolding a sordid drama of what has to come. In Srinagar (J&K), the tricolour has been burnt as if it were a community festival. This must have saddened and shocked every Indian. Similarly, another news item that shook us was Pak-sponsored, which said that Lahore was attacked by Indian terrorists. Similarly, the news item that the men who sprayed bullets on the Sri Lankan players during their tour to Pakistan were also Indians hit us like a ton of bricks. One another news that Sadhvi Pragya and Col Purohit were arrested in a bid to spread Hindu terrorism gave a severe jolt to us. What is more shocking is the fact that the police secretly spoke of the hands of Hindu terrorist organisation in Pune bomb blast.

But then every time the story begins where one left off. This time it is the self-styled babas whose misdeeds have sapped the social fabrics of our country. All these babas are saffron-clad Hindus. None of them is either a priest or a maulvi. All this makes it amply clear that either the spiritual leaders of Hinduism have fallen from their paths or it is an orchestrated attack on Hinduism. While it is difficult to say if it is true or a mere conspiracy, it is clear that Hinduism is standing on crossroads. The Islam and Christianity are gaining strength but the Hinduism is weakening. So is the condition of the Buddhism and the Sikhism. What is different is apparent as the religions which originate here are being condemned in such a way that the Indian nationalism may die a slow but certain death. One must always keep it in mind that Bharat is primarily a spiritual entity and then a sovereign identity.

The people of India are sandwiched between these 'babas' and 'bandits' of political outfits as the new weapons of war in this decade are money and votes. Those who wield these weapons are always greeted with garlands of currency notes. The income tax people are also stunned by this fact. Maybe this is disproportionate to their known sources of income, but it appeals to their political consciousness. The irony is that you cannot abuse a Pandit because the consciousness of Parushram will torment you. An unhindered analysis of the misdeeds of a Thakur will invite the wrath of the Chetak community. Baniyas are of course, the younger brothers of Agrasen and above reproach. The Yadavas, Lodhis, Kurmis, Jatavas, Pasis, Bhangis all have flung their flags high in the sky; and you cannot criticise any one of them from an open forum. An adverse analysis of any Muslim, Christaian, Sikh or Jain saint will put your life in danger. But, if you criticise India, no one says a word. Rather, many will applaud.

The roof of this country which is like a lodge is leaking and that mending its dilapidated walls and its tattered roof is not considered our responsibility. We are simply bothered to save our heads from a leaking top. The farcical faces of our religious lords have been revealed many times; and our language has been corrupted. Now, every political jargon carries two meanings, one is actual the other is notional- dalit, minority, secular are the words of such dubious meanings. Here, one who rules is also called dalit and stand shamelessly wearing a garland of crores of thousand rupee currency notes; and where minority means being majority who comes second numerically. If Sachin Tendulkar cuts a cake which is in the shape of the map of India or Mandira Bedi wears a saree which bears the print of flags of many countries, they have to publicly apologise for their crime. If a cop in Kolkota or Bangaluru by mistake drops the national flag on the ground, he is suspended. But when the separatists in Jammu & Kashmir launch an agitation and burn our national flag, we all remain silent. The electronic media, which has telecast the news of Sachin, Mandira and the poor cop as breaking news, does not utter a single word about the government failure to hoist the national flag in Srinagar and its burning by terrorists. It would have been a happy situation if the walls of all religions had crumbled. Ironically, the walls of Islam and Christianity are becoming stronger.

Maybe it's Bareilly riots or the Boriwali bomb blast our hands are stained with the blood of our own kin. The people being killed by the Naxals and the Naxals who are losing their lives are all Indians. But on the whole, it is the Indian nationalism which is being murdered. It's high time that either we are killed or pay our enemies in the same coin.
(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English) - in March 27, 2010 Issue)

कुम्भ और दम्भ के बीच

उस दिन एक अजीब नजारा था। एक ओर कुम्भ में संन्यासी थे तो दूसरी ओर राजनीति के सत्यानाशी। इन संन्यासी और सत्यानाशी के बीच अविनाशी विक्रम संवत का नया साल शुरू हुआ। इधर संन्यासी और उधर राजनीति के सत्यानाशियों के बीच पिसती हुई आम जनता का महाविनाश हुआ है। इस बीच एक निरपेक्ष सहमा सा समाचार यह भी है कि जम्मू-कश्मीर की राजधानी में तिरंगा झण्डा सामूहिक समारोह में जलाया गया। इस सारी स्थितियों के साक्षी समय की बाट जोह रहे हम सहमे गवाह हैं।
एक दिन एक खबर आई। खबर पाकिस्तान प्रायोजित थी। लाहौर में भारत के आतंकियों ने हमला किया। फिर दूसरी खबर आई कि पाकिस्तान दौरे पर गई श्रीलंकाई टीम पर गोली बरसाने वाले भारतीय थे। तीसरी खबर आई कि हिन्दू आतंकवाद फैलाने के लिए साध्वी प्रज्ञा और कर्नल पुरोहित गिरफ्तार हुए। पुणे के बम विस्फोट में भी हिन्दू आतंकी संगठन का हाथ होने की पुलिसिया सुगबुगाहट हुई। अभी यह क्रम थमा भी नहीं था कि एक-एक कर बाबा बेनकाब होने लगे। यह सभी बाबा भगवाधारी हिन्दू बाबा थे। एक भी ईसाई पादरी या इस्लाम का अलंवरदार मौलवी नहीं था। बात स्पष्ट है कि या तो हिन्दुत्व के अध्यात्मिक अलमबरदार अब पतित हो चुके हैं या यह हिन्दुत्व पर हमला है। यह सत्य है या साजिश कहना कठिन है लेकिन हिन्दुत्व एक शर्मनाक दो राहे पर खड़ा है। कुल मिलाकर इधर निरन्तर इस्लाम मजबूत हो रहा है। इसाईयत भी मजबूत हो रही है पर हिन्दुत्व कमजोर हो रहा है, बौद्घ कमजोर हो रहे हैं, सिख कमजोर हो रहे हैं। यानी भारतीय राष्ट्रवाद का आधार अब क्षय रोग से ग्रस्त है।
कुल मिलाकर संन्यासी, सत्यानाशी और विनाशी के बीच देश के जन-गण-मन की बेचारगी बिखरी पड़ी है। इस शताब्दी के युद्ध के नए हथियार हैं नोट और वोट। जिनके चरणों में वोट मालाएं हैं उन्हीं के गले में अब नोट मालाएं पड़ रही हैं। आयकर वाले भी भ्रष्टाचार के इस आयाम से स्तब्ध हैं। आप पंडित जी को गाली नहीं दे सकते, परशुराम की चेतना आपकी वेदना बन जाएगी। किन्हीं ठाकुर साहब के कुकर्मों की बेबाक समीक्षा को चेतक समाज चेतावनी देने लगेगा। बनिए अग्रसेन के अनुज हैं ही। यादव जी, लोधी जी, कुर्मी जी, जाटव जी, पासी जी, भंगी जी, बसोर जी, सभी ने अपनी पताकाएं ऊंची फहरा रखी हैं। आप इनमें से मंच पर किसी की भी आलोचना नहीं कर सकते। मुसलमान, ईसाई, सिख या जैन गुरु की समीक्षा करने मात्र से आपकी जान के लाले पड़ सकते हैं, लेकिन अगर आप भारत की आलोचना करें तो कोई कुछ नहीं कहता, कुछ ताली भी बजाते हैं, अनेक नेतागीरी भी चमकाते हैं। कुल मिलाकर यह देश तो धर्म निरपेक्ष है और हम धर्म सापेक्ष। यह देश एक ऐसी धर्मशाला बन चुका है कि जिसकी दरकती दीवारों को दुरुस्त करना हमें अपनी जिम्मेदारी ही नहीं लगता। इस धर्मशालानुमा देश की छत टपक रही है तो टपका करे, हमें अपने सिर की परवाह है।
'दलित' और 'दरिद्र' में अन्तर है। 'दलित' एक सामाजिक स्थिति है और 'दरिद्र' आर्थिक। जब आप बार-बार सत्तारूढ़ हों और भ्रष्ट भी तब आप न दलित ही रह जाते हैं न दरिद्र ही। कोई भी राष्ट्र एक चिन्हित की जा सकने वाली संप्रभु, संवैधानिक राजनीतिक इकाई तब होता है जब वह भौगोलिक और सांस्कृतिक रूप से अस्तित्व में हो। राष्ट्र के तत्व में भाषा और धर्म से पैदा हुई संस्कृति होती है। हमारे धर्म के पाखण्डी प्रणेता एक-एक कर बेनकाब हो रहे हैं। हमारी भाषा भ्रष्ट हो चुकी है। जहां दलित सत्तारूढ़ हों, करोड़ों के नोटों की माला पहने निर्लज्ज खड़े हों, अल्पसंख्यक का अर्थ दूसरे नम्बर का बहुसंख्यक हो। लोधी अपने आपको बैकवर्ड भी बताएं और 'राजपूत' भी लिखें। धर्म ध्वजा के वाहक सार्वजनिक जीवन के कुंभ में निर्वस्त्र दिखाई दे रहे हों। लोकतंत्र में लोकलाज का अभाव हो, माने इस धर्मशाला बने भारत राष्ट्र की हर कमरे की छत टपक रही है और हर दीवार दरक रही है।
अगर सचिन तेंदुलकर कोई ऐसा केक काट दें कि जिसकी डिजाइन भारत के नक्शे से मिलती हो तो उसे माफी मांगनी पड़ती है। अगर मंदिरा बेदी कोई ऐसी साड़ी पहन ले कि जिस पर तमाम देशों के झण्डे छपे हों तो उसे इतने गुनाह पर ही माफी मांगनी पड़ती है। अगर कहीं कोलकाता या बंगलौर में कोई खूसट सिपाही धोखे से तिरंगे झंडे को जमीन में गिरा दे तो उसे निलंबित कर दिया जाता है, लेकिन अगर जम्मू में आज अलगाव वादियों ने प्रदर्शन करते हुए हमारा राष्ट्रीय ध्वज जलाया तो सभी शान्त हैं। जिस मीडिया को सचिन, मंदिरा बेदी या खूंसट सिपाहियों के विरुद्घ 'ब्रेकिंग न्यूज' मिल गई थी उनके लिए इस गणतंत्र पर श्रीनगर में तिरंगा न फहराया जाना और अब तिरंगा जलाया जाना कोई संज्ञेय समाचार ही नहीं है। अच्छा होता कि भारत राष्ट्र की इस बढ़ी किन्तु विराट धर्मशाला में धर्म की सभी दीवारें ढह जातीं, लेकिन यहां इस्लाम की दीवारें और मोटी व ऊंची हो रही हैं। ईसाइयत भी अपनी धर्म ध्वजा को आंधियों में फहराता देखकर खुश दिख रही है और भाषा के हथियार से वह एक लड़ाई जीत भी चुके हैं। हिन्दुत्व की पुरानी दीवार ढहाई जा रही है। बरेली के दंगे हों या बोरीवली का बम विस्फोट हमारे हाथ अपनों के ही खून से रंगे हैं। जो नक्सली हमें मार रहे हैं वह भी भारतीय हैं और जो नक्सली मारे जा रहे हैं वह भी भारतीय ही। कुल मिलाकर भारत राष्ट्र का कत्ल हो रहा है। काफी हद तक हो चुका है। अब समय आ गया है अगर राष्ट्र बचाना है तो हमें कत्ल होना पड़ेगा या कत्ल करना पड़ेगा।
खंजर पर मेरे खून है मेरे ही भाई का,
इस बार जंग जीतकर पछता रहा हूं मैं।
(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English) - in March 27, 2010 Issue)

Tuesday, March 16, 2010

Bizarre bazaar

New values, culture and civilisation are replacing the old.  This process is a sort of displacement and establishment – a sort of creation and excretion – that has caused a dilemma in the society.  No one knows where to go and what to do?  This new development has also affected the media that has all but turned into a 'mandi'. And in this 'media mandi', while a few words are permanent, most are being sold. Advertisements are being sold in the name of news. Most newspapers, instead of becoming a part of democracy, have become tools of conspiracy.

They are only raising those issues which suit their interests; Doordarshan is also indirectly involved in this kind of journalism. They avoid issues which are important but kick up a controversy. News channels are directly involved in a sort of 'prostitution'. While channels give importance to Rahul Mahajan, they have no slot for his ex-wife Shweta. Actually, the news priority given to UPA Chairperson Sonia Gandhi and opposition leader Sushma Swaraj is different from those who lack basic amenities. While reaching Parliament is important for Gandhi and Swaraj, surely a lavatory is important for the poverty-ridden women.

Market rules the 'media mandi', where consistency and endurance are two basic factors that are required to survive. When we, the media people – reporter, writer, editor and media owners – are in the market to prostitute ourselves, do we have any moral right to our raise finger at the character of the market? Does the post of editor still have relevance? Now, there are news traders, news employees, news market, news sellers and news vendors. Altogether, this is the whole scene in the market. Is there any solution to this problem?  No. Only resolution of a dedicated editor can solve this everlasting problem. The word akhbaar originated during the Moughal era. The article, which was read in the court of Badshah to introduce him with the state of affairs in his kingdom, was called akhbaar.

With the passage of time, the format of newspaper has changed but the thinking of the rulers remains unchanged. Badshah wanted that division and contradiction should prevail in the society. So, are the Britons and politicians. Mahatma Gandhi, Bal Gangadhar Tilak, Ganesh Shankar Vidyarthi, Madan Mohan Malviya, Bhagat Singh and Ramnath Goenka used media for disseminating information and ideas to unite the Indian society and tried to turn it into good energy conductor. I would like to differentiate between good and bad conductors of energy. For example, if one end of a log is put on fire, its other end never heats up. So, the log is the bad conductor of energy. But as one side of an iron rod is put into furnace, both sides heat up. Therefore, iron is the good conductor of energy. Mahatma Gandhi and others did the same thing. Earlier, any incident in Jammu and Kashmir used to raise a dust in Tamil Nadu. Remember how the incident of Noakhali left Gujarat restless.

After India won freedom, its people turned into a bad conductor of energy. This is the basic difference between Mahatma Gandhi and rest of the 'fake Gandhis'. News magazines like Dinman and Ravivar became a thing of the past after glimmering for sometimes. The situation has come to such a pass that Ambika Soni once said, "The media acts as a repository of public trust for conveying facts to the people. When paid news is presented as news content, it could mislead the people and thereby hamper their judgment to form a correct opinion. Thus, there is no denying the fact that there is an urgent need to protect people's right to correct and unbiased information."

Then the question is: what is the solution to this problem? Alternative media or a determined media? We have decided. Our determination is our strength. We hope that Jan Gan Man guides us so that we may reach you with the objectivity which is meant for you and let your voice of anguish reach the deaf ears of politicians.

We may help the torchbearers of democracy wake up; and we have taken the pledge to give you an alternative of an alternative media. We are marching ahead with this mission. Now, it is to be seen when its spark turns into a fire raising public awareness. We have come to make the society a good conductor of this heat. We are holding up the lamp to lighten the path, determined to glow in the dark and struggle to welcome the dawn of a new morning. Whether you will be with us or not is your decision.
(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English) - in March 20, 2010 Issue)

सार्थक संपादक का संकल्प

'मैं राह का चिराग हूं, सूरज तो हूं नहीं,
जितनी मेरी बिसात है जला जा रहा हूं मैं।'
काफिले गुजर रहे हैं। विस्थापित हो रही सभ्यताओं संस्कृति और सामाजिक मूल्यों के काफिले। काफिले भी आ रहे हैं नए संस्कारों, सभ्यता और संस्कृति के काफिले। इस स्थापना और विस्थापना के बीच। इस सृजन, उत्सर्जन और विसर्जन के बीच विश्वास और विवशता के नारे हैं। हमारी राह क्या हो? यह बेबसी है, बेचैनी और विडम्बना भी। आज इसी दो राहे पर मंडी लगी 'मीडिया मंडी'। इस 'मीडिया मंडी' में कुछ शब्द टिकाऊ हैं, किन्तु अधिकांश बिकाऊ।
विज्ञापन खबरें बनाकर बेचे जा रहे हैं। अधिकांश अखबार लोकतंत्र के यंत्र नहीं षड्यंत्र बन चुके हैं। केवल सुविधाजनक सत्य की ही पल्लेदारी हो रही है। दूर-दर्शन भी परोक्षत: देह व्यापार में लिप्त है। वहां भी राहुल दुल्हनिया ले गया है, सुबकती श्वेता (राहुल की पहली पत्नी) को कोई नहीं पूछ रहा। सोनिया गांधी हों या सुषमा स्वराज सभी की वरीयता है संसद, उधर दूसरी ओर आधी आबादी खुले में शौच जाने को अभिशप्त है उसकी वरीयता है शौचालय। संसद व शौचालय के बीच बिखरी सभ्यता की वरीयता और वेदना अलग-अलग है। क्या इस वेदना की वाहक है भारतीय मीडिया?
'मीडिया मंडी' यानी 'बाजार' जहां वही बिकेगा जो दिखेगा और वही दिखेगा जो इस मंडी में टिकेगा। जब हम मीडिया के लोग अपना खरीदार तलाशते मंडी में बिकाऊ होकर खड़े ही हो गए तो बाजार का आचरण और बाजार का व्याकरण। फिर संवाददाता, लेखक, सम्पादक, मीडिया मालिक आदरणीय क्यों हों? अब 'समाचार व्यापारी', समाचार कर्मचारी, समाचार आढत, समाचार हलवाई, समाचार चाट। कुल मिलाकर यही परिदृश्य है। मीडिया मंडी की इन वैश्य और वैश्यावृत्ति से असहमत व्यक्ति पर विकल्प क्या है? - कोई नहीं। ऐसे में संकल्प ही शेष है। किसी सार्थक संपादक का संकल्प।
मुगलकाल में 'अखबार' शब्द आया। बादशाह को जनता का हाल बताने के लिए दरबार में जो आलेख पढ़ा जाता था उसे 'अखबार' कहते थे। तब हो या अब बादशाह यही चाहते थे कि समाज विभाजित रहे, एक इकाई न बन सके और उसमें परस्पर द्वंद्व जारी रहे। अंग्रेजों ने भी यही किया।
गांधी, तिलक, गणेश शंकर विद्यार्थी, मदनमोहन मालवीय, भगत सिंह, रामनाथ गोयनका जैसों ने मीडिया को सूचना, समाचार और विचार का वाहक बनाया ताकि विभक्त भारतीय समाज को संवेदना के सूत्र में बांध कर संगठित किया जा सके। भारतीय समाज ऊष्मा का कुचालक समाज था उसे ऊष्मा का सुचालक समाज बनाया जा सके। यहां ऊष्मा के सुचालक और कुचालक का अन्तर स्पष्ट कर दूं। लकड़ी का कोई लट्ठा अगर एक सिरे से जलाया जाए तो उससे उसका दूसरा सिरा गर्म नहीं होता। वह ऊष्मा का कुचालक है। लोहे की सरिया का एक सिरा भट्ठी में डाल दें तो दूसरा सिरा तपने लगता है। वह ऊष्मा का सुचालक है। महात्मा गांधी आदि ने यही किया था। जम्मू कश्मीर में कुछ हो तो तमिलनाडु सुलगने लगता था। नोआखली में कुछ हो तो गुजरात बेचैन दिखता था।
हम आजाद हुए और फिर हमें आसान किस्तों में ऊष्मा का कुचालक बना दिया गया। यही अंतर है असली महात्मा गांधी और शेष बचे फर्जी गांधियों में। दिनमान, रविवार जैसे कई प्रयोग हुए पर कुछ समय टिमटिमा कर राह के ये दिए भी धुआं पहन गए, और वह दिन भी आ गया कि जब संजय गांधी के साथ अपनी जवानी में क्रान्ति कर चुकी अम्बिका सोनी ने मीडिया को प्रवचन देते हुए कह डाला - ''मीडिया जन विश्वास की इस आस्था पर खड़ी है कि उसे लोगों तक सच और उचित सूचनाएं पहुंचानी है। जब पैसे लेकर सूचनाएं समाचारों की तरह पढ़ाई जा रही हों तो वह जनता को दिशा भ्रमित करेंगी और सही निर्णय तक पहुंचने में बाधा डालेंगी। इसलिए इससे इनकार ही नहीं किया जा सकता कि जनता के सही निष्पक्ष सूचना पाने के अधिकार को मीडिया से ही खतरा है और मीडिया की इस प्रकार की चरित्रहीनता से जनता को तुरन्त सुरक्षा देना जरूरी है।'' अम्बिका सोनी ने मंडी में खड़ी मीडिया को प्रवचन दे डाला और अपराध बोध से यह सुन लेना पड़ा। आगे ऐसा न हो, इसका उपचार क्या है?
वैकल्पिक मीडिया या संकल्प की मीडिया। हमने तय कर लिया है। हमारा संकल्प ही हमारा सामर्थ्य है। हम प्रयास कर रहे हैं कि हमारे प्रयासों की प्रायोजक भारतीय 'जन-गण-मन' हो। हम आपके सरोकारों वाले सच को लेकर आप तक पहुंचें और आपकी वेदना को बंद पड़े कानों में ठूंस दें। लोकतंत्र के चौकीदारों को हम जगाएं। हमने संकल्प किया है आपको वैकल्पिक मीडिया देने का। हम चल पड़े हैं इन्हीं जज्बात और जुनून के साथ। देखना है कि यह जन चेतना की जरूरतों का जुलूस कब बन पाता है? हम समाज को ऊष्मा का सुचालक समाज बनाने आए हैं। हम पर आईना है और आप पर सूरत-ए-हाल। हम राह के चिराग हैं, हमारा संकल्प है कि हम जलेंगे अंधेरे से जूझने के लिए, नई सुबह के सूरज का स्वागत ही हमारा संकल्प है।
हमें विश्वास है कि नई सुबह के नए सूरज के स्वागत में आप भी होंगे हमारे साथ। एक तरह के पत्रकारीय संस्कारों का अगर सूर्यास्त हुआ है तो दूसरी तरह के पत्रकारीय संस्कार दूसरे कोने से उदित हो रहे हैं। सच के पानी की पैमाइश करने वालों को पता है कि उसके नीचे भी दहक रहा है एक ज्वालामुखी। हमारे पास दो ही रास्ते हैं या तो सूरज में अपनी सच की परछाई की पैमाइश कर लें या पैरों तले पाताल में तलाशें सोते हुए ज्वालामुखी।
(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English) - in March 20, 2010 Issue)

Friday, March 5, 2010

Pangs of poverty

We live in a funny nation where Pizza reaches home faster than ambulance or police… you'll get car loan @ eight per cent but education loan at 12 per cent; you need qualification to manage work but no degree needed to manage the country where school admissions are more painful than child birth… ever since I received this message on my cell-phone, I cried like the dancing peacock who wails after seeing its ugly claws. Peacock is our national bird. Legend has it that when self-enchanted peacock starts dancing on its beauty, all of sudden the bird sees its claws. The bird feels that they are ugly as compared to other beautiful parts of his body and the bird burst into tears. Like the self-enchanted peacock, the self-enchanted nation, delighted about the success of its economy, is also crying out, seeing the ugly condition of the common man.

Factories, roads, houses, bridges are not the factors of nation-building. Nation- building starts since childbirth. When a grandfather takes his grandson to the school for the first time, nation walks in the form of a little child. In this budget, no provision has been made to make the feet of nation beautiful. The budget has much about the infrastructure and basic infrastructure but it does not have any proposal for its soul.

So far the nation has failed to provide equivalent education to its children. At this juncture, it should be decided which class does this nation belong to? In metros like Mumbai, Kolkata and Delhi, the factory owners' children are studying to become owners. Children of bureaucrats and other services are spending sleepless nights to become employees and children, studying in the schools in remote areas and villages, are dreaming of becoming servant to servants.

Those in power don't want to implement a common education system as they want their children to become owner or master and your son to become their servant or servant to servant - fourth class employee. Altogether, when your son gets education in such a system, he wouldn't be able to do anything, besides becoming a servant. The factory that makes servant is called 'School'. These 'schools' are owned by businessmen not by academicians.

Let us have a look at other aspects of this issue. Education spread rate has been comparatively low in the constituencies like Phoolpur, Rae Bareli, Chikmagalur and Bellary – which gave prime ministers to the nation. This shows that the semi-literate people elect nation's premiers. But Delhi, Mumbai and Kolkata had never been constituencies of an elected premier.

You have seen Priyanka, Rahul, Jitin and Nitin. Now, see your child, who does not have a thumb in his hand. He is Eklavya of today. Without resources, he has to compete with those who were born with silver spoon. He does not have thumb of resources and recommendations in his hands. Only lucky people have lucky sons. As he is the child of an unlucky person, he is raw material of the so-called nation-building factory.

A Gandhi, a Bhagat Singh and a Subhash Bose raised your voice against your slavery but you do not utter even a single word against it. You will have to bridge the gap between a firefly of village and a tubelight of the city. In the gilli-danda vs golf competition, Bharat vs. India's 'Bhindia' is seeking its definition. All amenities, including light, roads and food are confined to cities only. While tube lights illuminate India, Bharat still lives in the dark. Why no one takes stand against this injustice? What are we doing for nation-building?

Budget is the mirror of our plans. Government's index ends with the analysis of budget. Budget has dual parameter. While it has 'consumer index' for the rich, it has 'Gross Domestic Product' for the poor. Apparently, the rich and prosperous get all the facilities they want, even as the poor are asked about their contribution to the nation-building. The poor will get education, cloth, medical facility, justice and housing in the proportion of productivity. As a result, teachers, constables, farmers and soldiers are getting included in the list of the poor and stock broker, actors, players are getting richer. Those who are ready to sacrifice their lives for the nation are depended on the pity of 'parasites'. Is there any solution to the problem?

(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English) - in March 13, 2010 Issue)

भारत - इंडिया या भिंडिया

''हम एक अजीब देश में रहते हैं, जहां पिज्जा हमारे घर तक एम्बुलेंस या पुलिस की अपेक्षा जल्दी पहुंच जाता है। आपको 8 प्रतिशत के ब्याज पर कार लोन मिलता है जबकि एजूकेशन लोन 12 प्रतिशत के ब्याज पर मिलता है। जहां बच्चे को स्कूल में दाखिला दिलवाना उसके जन्म की प्रसव वेदना से भी अधिक कष्टकर है। जहां कार्य प्रबंधन के लिए योग्यता जरूरी है पर देश प्रबंधन के लिए कोई योग्यता नहीं चाहिए।'' मेरे मोबाइल फोन पर जबसे यह मैसेज आया मैं नाचते मोर की तरह अपने कुरूप पंजे देखकर रो दिया। मोर हमारा राष्ट्रीय पक्षी है। दंत कथा इस प्रकार है कि मोर जब अपनी ही सुन्दरता पर आत्म मुग्ध होकर नाचता है तो नाचते-नाचते अचानक उसका ध्यान अपने पंजों पर जाता है और वह पाता है कि उसके शेष शरीर के सौंदर्य की अपेक्षा उसके पंजे कुरूप हैं और वह आत्म मुग्ध मोर रो पड़ता है। देश की आर्थिक राजधानियों, प्रदेश की राजनीतिक राजधानियों में यह नाचता हुआ आत्म मुग्ध राष्ट्र भी रो रहा है अपने पंजे यानी बुनियाद यानी जन-गण-मन का विद्रूप चेहरा देखकर।
राष्ट्र का निर्माण लोहे, सीमेंट, कल कारखानों, सड़कों, मकानों, बम्बे-खम्बे, पुल-पुलियों से स्मारकों से नहीं होता। राष्ट्र का निर्माण हर बच्चे के जन्म से शुरू होता है। जब कोई दादा पोते को पहली बार स्कूल ले जा रहा होता है तो नन्हें कदमों से राष्ट्र चल रहा होता है। इस बजट में भी राष्ट्र के पंजों को सुन्दर बनाने का कोई प्रयास नहीं हुआ है। ढांचे और आधार-भूत ढांचे की तो लम्बी व्याख्यान माला है पर उस ढांचे की आत्मा का कोई प्रस्ताव ही नहीं। जो राष्ट्र अपने बच्चों को समान शिक्षा भी अभी तक नहीं दे सका वह समाज के किस तबके का राष्ट्र है किसका नहीं अब तय हो ही जाना चाहिए। मुम्बई, कलकत्ता, दिल्ली जैसे शहरों में मालिकों के बच्चे मालिक बनने के लिए पढाई-पढाई खेल रहे हैं। नौकरों के बच्चे अगली पीढ़ी का नौकर बनने के लिए अपना बचपना स्कूलों के कोल्हू में पेर रहे हैं और दूर देहात में टाट-पट्टी वाले स्कूलों के बच्चे सत्ता के नौकरों का नौकर बनने का सपना संजोए गोबर से अपने स्कूल का आंगन लीप रहे हैं।
वह यानी सत्ता के सारथी इस देश में एक से स्कूल, एक सी शिक्षा इसीलिए नहीं रखना चाहते क्योंकि वह चाहते हैं कि उनका बेटा देश का मालिक और आपका बेटा या तो नौकर बने या उस नौकर का चाकर यानी चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी। कुल मिलाकर जब आपका बेटा इस शिक्षा पद्धति में थोड़ा-बहुत पढ़ जाएगा तो नौकर बनने के सिवा और कर भी क्या पाएगा? - वह यही चाहते हैं। नौकर ढालने की इस औद्योगिक इकाई का नाम है 'स्कूल'। यह पाठशालाएं मंथरा के बेटों की हैं, किसी लव-कुश की नहीं। इस बात पर दूसरे पहलू से भी गौर करें। देश को प्रधानमंत्री देने वाले निर्वाचन क्षेत्रों पर नजर डालें। फूलपुर, रायबरेली, चिकमंगलूर, बेल्लारी सभी में शिक्षा का प्रसार अन्य क्षेत्रों की अपेक्षा कम रहा है। यानी अल्पशिक्षित लोग ही देश को प्रधानमंत्री देते हैं। अभी तक किसी भी प्रधानमंत्री का निर्वाचन क्षेत्र दिल्ली, मुम्बई, कोलकाता नहीं रहा।
बहुत देख चुके किसी राहुल, प्रियंका, सचिन, नितिन की ओर थोड़ी देर को अपने छोटे से बच्चे के हाथ को भी देखो। गौर से देखो उसके हाथ में अंगूठा नहीं है। इस सदी का एकलव्य है वह। बिना संसाधनों के उसे इन रईसजादों से टक्कर लेनी है। संसाधनों और सोर्स सिफारिश का अंगूठा उसके हाथ में नहीं है। भाग्यवानों के बेटे ही भाग्यवान होते हैं चूंकि वह अभाग्यवानों का बेटा है इसलिए वह इस राष्ट्र निर्माण के कथित कारखाने का कच्चा माल है। बिल्कुल किसी कोयले की तरह खुद जलकर ऊर्जा देना जिसकी नियति है।
तुम्हारी गुलामी के विरोध में एक गांधी, एक भगत सिंह, एक सुभाष भी खड़ा था लेकिन तुम हो कि अपनी औलाद की गुलामी के विरुद्घ कुछ बोलते ही नहीं। गांव के जुगनू और शहर की ट्‌यूबलाइट के बीच का अन्तर तुम्हे ही पाटना होगा। गिल्ली-डंडा और गोल्फ के बीच भारत बनाम इंडिया की 'भिंडिया' अपनी राष्ट्रीय परिभाषा तलाश रही है। रौशनी, रास्ते, राशन और रोजगार सभी पर शहरों का कब्जा है और सोडियम लैम्प सिर्फ राजधानी की सड़कों पर ही जगमगा रहे हैं जबकि दूर देहात के असली भारत में अभी अंधेरा है। इस अंधेर और अंधेरे के खिलाफ क्यों खून नहीं खौल रहा?
राष्ट्र निर्माण के लिए हम क्या कर ही रहे हैं? 'बजट' हमारी योजनाओं का आईना होता है। बजट की समीक्षा से सरकार का 'वरीयता क्रम' स्पष्ट हो जाता है। बजट पर गौर करें। दोहरे मानदण्ड हैं। अमीरों के उपभोग के लिए 'उपभोक्ता सूची' और गरीबों के लिए 'कुल घरेलू उत्पाद'। बात साफ है कि अमीरों को वह सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएं कि जिनका वह उपभोग करना चाहते हैं और गरीब बताएं कि उन्होंने राष्ट्र निर्माण में क्या योगदान दिया यानी 'कुल घरेलू उत्पाद'। दूसरे शब्दों में अमीर बताएं कि वह साल भर में राष्ट्र को कितना कुतर-कुतर कर खा सकते हैं और गरीब पहले अपनी उत्पादकता सिद्ध करें फिर अपना हक मांगे। गरीबों को शिक्षा, चिकिˆसा, स्वास्थ्य, न्याय, रोटी, कपड़ा और मकान उसकी उत्पादकता के अनुपात में ही मिलेगा। परिणाम शिक्षक, सिपाही, किसान, सैनिक सभी वंचितों की सूची में सरकते जा रहे हैं और शेयर दलाल, फिल्मी कलाकार, नाचने गाने वाले, सारंगी मजीरे बजाने वाले, खेलने-कूदने वाले सभी सम्प‹न होते जा रहे हैं। दूसरे शब्दों में देश के लिए जान देने वालों की कतार अब कातर हो परजीवियों को देख रही है। इस राष्ट्र के कानों में गूंज रही है राष्ट्रगान की धुन और देह में लगा है परजीवी घुन। राष्ट्र का निर्माण नहीं क्षरण हो रहा है। है किसी के पास इस क्षय रोग का इलाज।
(Published in By-Line National Weekly News Magazine (Hindi & English) - in March 13, 2010 Issue)